दरभंगा । जिलाधिकारी राजीव रौशन ने सोमवार को समाहरणालय स्थित बाबा साहेब डा. भीमराव आंबेडकर सभागार में 15-18 आयुवर्ग के किशोरों की सुरक्षा के लिए 03 जनवरी से जिले में चल रहे कोविड टीकाकरण

अभियान की प्रखंडवार समीक्षा की। इस दौरान जिन प्रखंडों की स्थिति असंतोषजनक पाई गई। उनमें गौड़ाबौराम, हायाघाट, किरतपुर, जाले, कुशेश्वरस्थान पूर्वी, बहेड़ी, बेनीपुर शामिल हैं। यहां के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की। वहीं गौड़ाबौराम एवं जाले के प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी तथा गौड़ाबौराम एवं किरतपुर के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से धीमी प्रगति व कार्य में लापरवाही को लेकर स्पष्टीकरण तलब किया गया है। समीक्षा में दरभंगा शहरी क्षेत्र एवं घनश्यामपुर प्रखंड में टीकाकरण कार्य प्रशंसनीय पाया गया। जिलाधिकारी ने निर्देश देते हुए सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी एवं बाल विकास परियोजना पदाधिकारी को कहा कि 22 जनवरी तक 15 से 18 आयुवर्ग के लिए निर्धारित टीकाकरण लक्ष्य का शत्-प्रतिशत् उपलब्धि प्राप्त करनी होगी। इसके लिए प्रखंड स्तर पर रणनीति बनानी होगी। प्रत्येक पंचायत के एक आंगनबाड़ी केंद्र को नोडल केंद्र बनाया जाए। शेष सभी आंगनबाड़ी केंद्र के पोषण क्षेत्र की सेविका व सहायिका द्वारा घर-घर सर्वेक्षण किया जाए। 15-18 आयुवर्ग के जिन किशोरों ने टीका नहीं लिया है, उन्हें टीकाकरण केंद्र पर पहुंचाना सुनिश्चित किया जाए। इसके साथ ही सभी उच्च विद्यालय व प्लस-टू उच्च विद्यालय के प्रधानाध्यापक अपने नामांकन सूची से ऐसे विद्यार्थियों की लिस्ट बनाकर अपने सभी शिक्षकों के बीच लक्ष्य निर्धारित कर दें, कि उतने बच्चों को घर से बुलवाकर टीका लगवाने की जिम्मेवारी उस संबंधित शिक्षक की होगी, जिन्हें वह लक्ष्य दिया गया है।

जिलाधिकारी ने कहा कि वैसे विद्यालय, जो शत्-प्रतिश्त अपने 15-18 आयुवर्ग के छात्रों का टीकाकरण करवा लेगा, उसे 26 जनवरी 2022 को जिला स्तर एवं राज्य स्तर पर सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों एवं किशोरों को यह अवगत करा दिया जाना चाहिए मैट्रिक एवं इंटर की परीक्षा में ऐसे आयुवर्ग के छात्रों के लिए टीकाकरण अनिवार्य कर दिया गया है। यदि वे टीका नहीं लगवाते है, तो परीक्षा में बैठने में कठिनाई होगी। साथ ही भविष्य में अन्य लाभ यथा छात्रवृत्ति के लिए भी यह मापदंड (कोरोना का टीका लेना अनिवार्य) निर्धारित किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि महादलित टोला के किशोरों को टोला सेवक के माध्यम से जागरूक किया जाए तथा उन्हें टीकाकरण केन्द्र पर किशोरों को लाने की जिम्मेवारी दी जाए। फ्रंट लाइन एवं हेल्थ केयर वर्कर को जनवरी माह के वेतन भुगतान के लिए प्रिकॉशनरी डोज का टीका लेना अनिवार्य होगा, सभी निकासी एवं व्ययन पदाधिकारी को इसे सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया। निजी अस्पतालों एवं क्लिनिकों के लिए भी इसे अनिवार्य किया गया है, अन्यथा उनकी क्लीनिक व अस्पताल की अनुज्ञप्ति निलंबित की जा सकती है।

उन्होंने कहा कि जिनका भी द्वितीय डोज का टीका बकाया है, उन्हें कॉल सेन्टर से बुलाकर जल्द से जल्द द्वितीय डोज का टीका दे दिया जाए।

बैठक में सहायक समाहर्ता अभिषेक पलासिया, सिविल सर्जन डॉ. अनिल कुमार सिन्हा, अपर समाहर्ता (आपदा) अनिल कुमार सिन्हा, उप निदेशक, जन संपर्क नागेन्द्र कुमार गुप्ता, आपदा प्रभारी सत्यम सहाय, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (मध्याह्न भोजन) संजय देव कन्हैया, जिला स्वास्थ्य प्रबंधक विशाल कुमार सहित संबंधित पदाधिकारी एवं सभी प्रखंडों से प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, प्रखण्ड स्वास्थ्य प्रबंधक एवं प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी आनलाइन जुड़े थे।

-

Edited By: Jagran