दरभंगा। कुशेश्वरस्थान थानाक्षेत्र में 20 जनवरी को सीएसपी संचालक से 10.85 लाख की रुपये के लूट मामले में पुलिस ने रविवार को चार बदमाशों को हथियार के साथ गिरफ्तार कर लिया। सभी समस्तीपुर जिले के हैं। हालांकि, पांच बदमाश अब भी फरार हैं। उन्हें पकड़ने के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है। गिरफ्तार बदमाश छोटू यादव उर्फ लक्ष्मण समस्तीपुर के बिथान थाना क्षेत्र के बेलसंडी का निवासी है। अनुज यादव और वीरेंद्र यादव सिघिया थाना क्षेत्र के अगरौल निवासी हैं। चौथा बिथान के कुआ गांव निवासी विनोद यादव का पुत्र है। इनके पास से दो पिस्तौल और छह कारतूस के साथ तीन बाइक व पांच मोबाइल बरामद किया गया है।

एसएसपी बाबू राम ने लूट मामले का पर्दाफाश कर लिया गया है। पूछताछ में बदमाशों ने बताया है कि घटना को अंजाम देने में बिथान क्षेत्र के कुआ निवासी कन्हैया पंजियार, बिथान दुर्गा मंदिर मोहल्ला निवासी सुमित पासवान, सरिता सुनील पासवान, सुनील यादव व बेगूसराय के गढ़वारा निवासी सचिन कुमार यादव शामिल था। अपराधी नौ फरवरी की शाम कुशेश्वरस्थान स्थित पकोहवा में निर्माणाधीन रेल पुल के पास आपराधिक घटना को अंजाम देने के लिए एकत्रित हुए थे। लेकिन, पुलिस ने छापेमारी कर चार को पकड़ा। शेष फरार हैं। बदमाशों के पास से तीन बाइक और एक कारतूस बरामद किया गया था। पूछताछ में पकड़े गए सभी बदमाशों ने बताया कि वे लोग सीएसपी संचालक को लूटने का काम करते हैं। 20 जनवरी को सतीघाट कुशेस्वरस्थान के पास 10 लाख 85 हजार रुपये लूटा था। सीएसपी संचालक के कर्मी का भांजा भी बदमाशों में शामिल

पीड़ित सीएसपी संचालक का एक कर्मी पकड़े गए बदमाश वीरेंद्र का मामा है। वीरेंद्र अपने मामा बीरबल यादव के यहां ही रहता है। लाइन मिलने पर वीरेंद्र ने अपने गांव के अनुज से संपर्क किया। अनुज सिधिया थाना क्षेत्र के दूधपुरा चौक से वर्ष 2018 में एटीएम मशीन को उखाड़कर ले गया था। इस मामले में वह जेल भी गया था। जेल में अनुज की दोस्ती छोटू यादव और डिक्सन से हुई। जेल से बाहर आते ही सभी ने घटना को अंजाम दिया। छापेमारी टीम बिरौल एसडीपीओ दिलीप कुमार झा, थानाध्यक्ष मनीष कुमार, घनश्यामपुर थानाध्यक्ष आशुतोष झा बिरौल थानाध्यक्ष कुणाल किशोर झा शामिल थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस