दरभंगा। शिवाजी नगर स्थित जीतू गाछी में खाटू श्याम मंडल की ओर से आयोजित चार दिवसीय महोत्सव के समापन समारोह पर गुरुवार को श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी भक्तगण समस्तीपुर, मधुबनी, झंझारपुर, सीतामढी, रक्सौल, काठमांडू, सहित दिल्ली आदि जगहों से खाटू श्याम की शरण में आ गए। खाटू श्याम मंडल के अध्यक्ष विनोद सरावगी ने बताया कि बाबा की झांकी में दिनों-दिन भक्तों की संख्या बढ़ती गई। चार फरवरी को करीब पांच हजार से अधिक परिवार झांकी में सम्मिलित हुए। बिहार के कोने-कोने से श्रद्धालुओं का आना जारी रहा। चार दिवसीय कार्यक्रम में करीब बीस हजार से अधिक लोगों को महाप्रसाद भोजन कराया गया है। इसके लिए अलग से भंडारा भी शुरू किया गया। उत्सव में नए लोग जुड़ते गए। प्रधान सचिव अजय चौधरी, ने बताया कि बाबा का मुकुट सरदार नगर से बनकर आया है और पोशाक कोलकाता से। श्रृंगार का सामान विदेशों से बनकर आए हैं। अंतिम दिन करीब दो बजे भजन-कीर्तन आरंभ हुआ। मंडल के तरूण मारोदिया ने गणेश वंदना से कार्यक्रम की शुरूआत की। नंद किशोर शर्मा, वृंदावन से पधारीं साध्वी पूर्णिमा पूनम दीदी, कोलकाता से पधारे शुभम-रूपम व आशीष सुल्तानिया उर्फ मोनू एवं मुंबई से पधारी मान्या ध्वनि अरोड़ा के भजनों पर भक्त देर रात तक झूमते रहे। समापन के अवसर पर आस्था का जनसैलाब श्याम मंदिर में उमड़ पड़ा। अध्यक्ष व प्रधान सचिव के अलावा संयोजक राजकुमार बंसल, कोषाध्यक्ष संदीप चौधरी, सदस्य अनुप शर्मा, संजीव टिबरेवाल, विकास मित्तल आदि व्यवस्था में जुटे रहे। भक्तों का मानना है कि खाटू श्याम के दरबार से कोई खाली हाथ नहीं लौटता। सदस्यगण समापन पर स्थानीय लोगों के सहयोग से भंडारा में आने वाले श्रद्धालुओं को महाप्रसाद का सेवन कराने में जुटे हुए थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस