दरभंगा, कार्यालय संवाददाता : साक्षर दरभंगा की ओर से मैथिली के वयोवृद्ध साहित्यकार उग्र नारायण मिश्र 'कनक' को साहित्य की सेवा के लिए 'वैदेह' सम्मान से सम्मानित किया गया। सीतायन सभागार में रविवार को आयोजित सम्मान समारोह की अध्यक्षता करते हुए डा.भीमनाथ झा ने कहा कि कनक जी ने दशकों से मैथिली साहित्य की सेवा की है। इनकी अप्रकाशित रचनाओं का प्रकाशन होना चाहिए। प्रो.जगदीश मंडल ने कहा कि सामाजिक समरसता के प्रसार में इनकी अहम भूमिका रही है। एमएलएसएम कालेज के प्रधानाचार्य डा.विद्यानाथ झा ने कहा कि जीवंत समाज अपने वरिष्ठ लोगों के योगदान का मूल्यांकन उनके जीवनकाल में ही करता है और गौरवान्वित होता है। एचपीएस कालेज के प्रधानाचार्य डा.फूलचंद्र मिश्र रमण ने कहा कि साहित्य व साहित्यकार का सम्मान होना ही चाहिए। समारोह के संयोजक कमलेश झा ने योगदान को याद करना नई पीढ़ी का दायित्व बताया। इससे नई पीढ़ी को प्रेरणा मिलती है तथा सम्मानित होने वाले भी दिशा दिखाते हैं। समारोह को संस्था के महासचिव अशोक कुमार चौधरी, निखिल झा, प्रो.टुनटुन झा अचल, रामकुमार झा, डा.मुरारी मोहन झा, डा.श्रवण कुमार चौधरी, शैलेंद्र आनंद, हरिश्चंद्र हरित, डा.योगानंद झा समेत कई लोगों ने संबोधित किया। धन्यवाद ज्ञापन फुलेंदु झा ने की।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर