Move to Jagran APP

'2024 में अश्विनी चौबे नहीं चाहिए...' दो गुटों में बंटे BJP कार्यकर्ता, केंद्रीय मंत्री के विरोध में लगे नारे

विरोध करने वालों का कहना है कि सांसद चौबे के कारण ही विधानसभा के चुनाव में जिले की सभी छह सीटों पर एनडीए को हार का मुंह देखना पड़ा। बैठक में पांच पूर्व जिलाध्यक्ष सच्चितानन्द भगत केदारनाथ तिवारी राणा प्रताप सिंह माधुरी कुंवर और प्रियव्रत सिंह शामिल रहे।

By Shubh Narayan PathakEdited By: Deepti MishraPublished: Thu, 25 May 2023 06:28 PM (IST)Updated: Thu, 25 May 2023 06:28 PM (IST)
पांच पूर्व जिला अध्यक्षों ने अश्विनी चौबे के विरोध में खोला मोर्चा।

जागरण संवाददाता, बक्सर: केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे को लोकसभा चुनाव से ठीक पहले अपने निर्वाचन क्षेत्र बक्सर में कार्यकर्ताओं के विरोध का सामना करना पड़ा। जिला मुख्यालय में गुरुवार को भाजपा जिला कार्यसमिति की एक बैठक हुई, जिसमें केंद्रीय मंत्री सह स्थानीय सांसद भी शामिल हुए। इस दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं के एक समूह ने केंद्रीय मंत्री का विरोध किया। उनके खिलाफ नारे लगाए।

भाजपा कार्यकर्ताओं के एक समूह ने बैठक में कहा कि साल 2024 के लोकसभा चुनाव में पार्टी को अश्विनी चौबे की बजाय किसी स्थानीय कार्यकर्ता को उम्मीदवार बनाया जाना चाहिए।

विरोध करने वालों का कहना है कि सांसद चौबे के कारण ही विधानसभा के चुनाव में जिले की सभी छह सीटों पर एनडीए को हार का मुंह देखना पड़ा। बैठक में पांच पूर्व जिलाध्यक्ष सच्चितानन्द भगत, केदारनाथ तिवारी, राणा प्रताप सिंह, माधुरी कुंवर और प्रियव्रत सिंह शामिल रहे।

30 जून तक चलेगा महासंपर्क अभियान

भाजपा की जिला कार्यसमिति की बैठक गुरुवार को शहर के एक होटल में हुई। बैठक की अध्यक्षता पार्टी जिलाध्यक्ष विजय कुमार सिंह उर्फ भोला सिंह ने की। बैठक में भाजपा के अगले महीने में चलने वाले महासंपर्क अभियान पर चर्चा हुई।

बैठक में मुख्य अतिथि के रूप में स्थानीय सांसद सह केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे मौजूद थे। इस दौरान, अपने संबोधन में उन्होंने 30 मई से 30 जून तक होने वाली महासंपर्क अभियान की सफलता का कार्यकर्ताओं से आह्वान किया।

उन्होंने कहा कि साल 2024 में लोकसभा क्षेत्र से भाजपा को जिताएं ताकि नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाया जा सके। इसके साथ ही उन्होंने साल 2025 में विधानसभा चुनाव में भी बक्सर से भाजपा को जीत दिलाने का आग्रह किया।  

इसी दौरान कुछ कार्यकर्ताओं ने चौबे के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी और मांग की 2024 में उन्‍हें मैदान में न उतारा जाए। इससे वहां अजीब स्थिति बन गई। बैठक में शामिल अन्‍य लोगों ने नारेबाजी करने वाले कार्यकर्ता को बाहर का रास्‍ता दिखा दिया। बाद में इंटरनेट मीडिया पर इसका वीडियो भी वायरल होने लगा।

हालांकि, भाजपा के मीडिया प्रभारी उमाशंकर राय से इस बारे में पूछे जाने पर उन्होंने ऐसी किसी बात से इनकार किया। कहा कि ऐसा कुछ नहीं हुआ है।

बैठक को संबोधित करते हुए पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष मिथिलेश तिवारी ने महासंपर्क अभियान के तहत होने वाले कार्यक्रमों की विस्तार से जानकारी दी। बैठक को लोकसभा प्रभारी अनिल स्वामी, लोकसभा संयोजक राजवंश सिंह, जिला प्रभारी मिथिलेश कुशवाहा आदि ने संबोधित किया।

मौके पर प्रदेश प्रवक्ता मनोज सिंह, पूर्व जिलाध्यक्ष रामकुमार सिंह, ओम प्रकाश भुवन, सतीश राजू, महासंपर्क अभियान के जिला संयोजक कृष्ण कुमार सिंह उर्फ मिठाई सिंह, सह संयोजक धीरेंद्र तिवारी, महामंत्री पूनम रविदास, इंद्रलेश पाठक, अनिल कुमार पांडेय और संत सिंह समेत अन्य लोग मौजूद थे। बैठक का संचालन जिला मंत्री निर्भय राय ने किया।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.