बक्सर । सरकार के जागरुकता कार्यक्रमों के बावजूद दूरदराज इलाकों में बाव विवाह नही थम रहा है। प्रतापसागर गांव में मंगलवार को ऐसी ही एक शादी को प्रशासन ने रुकवाया। दरअसल, गांव बजरंगी यादव और इनके परिवार के घर में मांगलिक गीत बज रहे थे, बिटिया की शादी थी। दूर-दराज से आए रिश्तेदार शाम में बरात के स्वागत की तैयारी में थे। तभी किसी ने अनुमंडलाधिकारी हरेन्द्र राम को यहां नाबालिग की शादी सूचना दी। जिसके बाद पुलिस ने आकर जांच की और शिकायत सही पाए जाने पर शादी रुकवा दी।

बरात सिमरी थाना क्षेत्र के तिलक राय के हाता गांव निवासी प्रभुनाथ यादव के पुत्र जितेन्द्र यादव की आनी थी। अनुमंडल पदाधिकारी हरेन्द्र राम को किसी के माध्यम से जानकारी मिली कि प्रतापसागर गांव में बजरंगी यादव की पुत्री जिसकी शादी की बरात आने वाली हैं, वह अभी नाबालिग है। शादी के लिए वाजिब उम्र होने में दो साल की देर है। इस सूचना के आलोक में नया भोजपुर ओपी प्रभारी ऋषिकेश और डुमरांव बीडीओ प्रमोद कुमार लड़की पक्ष के दरवाजे पर पहुंचे और लड़की की उम्र से संबंधित कागजात की मांग की। इसमें लड़की के नाबालिग होने की पुष्टि होने पर शादी रोकने का फरमान जारी किया। इस दौरान पुलिस प्रशासन को बेटी पक्ष के दरवाजे पर मौजूद नाते-रिश्तेदारों द्वारा काफी विरोध का सामना भी करना पड़ा। बावजूद, प्रशासन ने धैर्य के साथ लड़की पक्ष को कानून का पाठ पढ़ाया। आखिरकार नाबालिग लड़की के पिता ने मामले को गंभीरता से लिया और शादी रोक दी गई। इसके बाद वर पक्ष को भी बरात नहीं लाने की सूचना भेज दी गई। प्रखंड विकास पदाधिकारी प्रमोद कुमार ने बताया कि इस मामले में नाबालिग लड़की के साथ ही माता-पिता का हस्ताक्षर कराकर शादी रुकवा दी गई है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप