बक्सर : औद्योगिक थाना क्षेत्र के बड़की सारीमपुर से लापता 13 वर्षीय रियाज गंगा में डूबा नहीं था बल्कि, उसकी हत्या कर गंगा में फेंक दिया गया था। मामले का खुलासा करते हुए औद्योगिक थानाध्यक्ष मुकेश कुमार ने बताया कि क्रिकेट खेलने के दौरान हुए विवाद को लेकर उसके दो हम उम्र दोस्तों ने ही धोखे से ले जाकर गंगा में डुबाकर उसकी हत्या कर दी और लाश को भी नदी में फेंक दिया था। गुरुवार की शाम अहिरौली से शव बरामद होने के बाद पूछताछ में खुलासा होते ही आरोपित दोनों किशोरों को पुलिस अभिरक्षा में लेते हुए देर शाम बाल गृह भेज दिया गया। दरअसल, गुरुवार को शव की खोजबीन के क्रम में ही यूपी की सीमा अंतर्गत 33 के डेरा तट पर लापता किशोर रियाज का शव पुलिस ने बरामद कर लिया। शव की घरवालों से पहचान कराने के बाद यह साबित हो गया कि यह वही किशोर है जो दो दिन पूर्व शाम में बड़की सारीमपुर से अचानक लापता हो गया था। घरवालों के साथ पुलिस के तमाम प्रयासों के बावजूद बच्चे के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली थी। मंगलवार की शाम अपने कुछ दोस्तों के साथ बड़की सारीमपुर निवासी फैयाज खान का 13 वर्षीय पुत्र रियाज खान क्रिकेट खेलने निकला था। शाम को जब वह घर नहीं लौटा तब घरवालों ने उसकी खोजबीन शुरू की। अगली सुबह गोताखोरों की मदद से गंगा में भी तलाश कराई गई, बावजूद इसके कोई सफलता नहीं मिली थी। इस बीच बड़की सारीमपुर निवासी एक व्यक्ति ने ही मृतक के पिता फैयाज को बताया कि गांव के ही 14 और 16 वर्षीय दो किशोरों के साथ उन्होंने रियाज को जाते देखा था। दोनों दोस्तों से जब पिता ने रियाज के बारे में पूछा तब दोनों रियाज के साथ जाने की बात से साफ मुकर गए। यहीं से घरवालों का शक यकीन में बदलने लगा और औद्योगिक पुलिस को पूरी जानकारी दी। थानाध्यक्ष मुकेश कुमार ने दोनों किशोरों को थाने पर बुलाकर पूछताछ की तो पुलिस के सामने भी दोनों किशोर कोई जानकारी होने से साफ मुकर गए। लेकिन पुलिस ने जब सख्ती से पूछताछ की तब उन्होंने अपराध कबूल करते हुए बताया कि बदले की आग में अंधे होकर दोनों रियाज को तरबूज खिलाने के बहाने लेकर अहिरौली और अर्जुनपुर के बीच गंगा तट पर गए थे। वहां उन्होंने रियाज को गंगा स्नान के लिए उसकाया और उसके कपड़े खोलकर पानी में उतरते ही दोनों ने जबरन पकड़कर उसका सर गंगा में डुबो दिया और उसकी मौत होने तक उसे पूरे जोर से पकड़े रहे। मौत होने के बाद नदी में ही उसके शव को दोनों ने फेंक दिया। रियाज की हत्या के बाद उसके कपड़े और जूतों को एकसाथ लपेट कर उसमें बालू भरने के बाद गंगा में फेंक दिया था जिसे पुलिस ने दोनों की निशानदेही पर नदी से बरामद कर लिया है। थानाध्यक्ष मुकेश ने बताया कि जिस दिन रियाज गायब हुआ है उसी दिन सुबह में क्रिकेट खेलने के दौरान रियाज का कुछ बच्चों से विवाद हो गया था। तब घरवालों के हस्तक्षेप के साथ ही पिता फैयाज ने डांट-डपट के बाद विवाद को शांत करा दिया था। इसे सामान्य बात समझ रियाज और उनके पिता फैयाज भूल गए थे। उसी दिन शाम को रियाज अपने उन्हीं दोस्तो के बुलावा पर चला गया, जबकि उसके दोस्तों के दिमाग में विवाद उबाल मार रहा था और बदला लेने की योजना बनाकर दोनों ने रियाज को मौत के घाट उतार दिया।

Edited By: Jagran