आरा। वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय प्रशासन ने शुक्रवार को विभिन्न विभागों के 16 कर्मचारियों को एक टेबल से दूसरे टेबुल पर स्थानांतरित कर दिया। इसमें तृतीय और चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी दोनों शामिल हैं। इसको लेकर कई कर्मचारियों ने नाराजगी जताई। कर्मचारियों ने बताया कि जल्दी-जल्दी टेबुल बदले जाने से काम की गुणवत्ता में कमी आती है। किसी कर्मचारी को संबंधित विभाग के काम समझने में दो माह से अधिक समय गुजर जाता है। कुलसचिव कर्नल श्यामानंद झा ने बताया कि विवि मुख्यालय के विभिन्न 16 विभागों के कर्मचारियों के टेबुल के प्रभारियों को बदल दिया गया, ताकि फाइलों के निपटारा में तेजी लाई जा सके। बता दें कि विगत तीन माह पूर्व भी दो कर्मचारियों के विभागों का अदला-बदली किया गया था। इस तरह से साल में तीन बार दो कर्मचारियों का तबादला हो चुका है। आश्चर्य की बात है कि जिन दो दोनों कर्मचारियों को माह भर पहले विभाग बदल दिया गया था, उन्हें भी फिर से बदल दिया गया है। तीन माह पूर्व उदय शंकर ओझा का स्थानांतरण संबंधन विभाग से कल्याण विभाग में किया गया था। अब उन्हें फिर से स्थापना विभाग में तबादला कर दिया गया। इस तरह पिछले वर्ष अप्रैल माह में उदय नारायण राम को संबंधन विभाग में स्थानांतरण किया गया था फिर उन्हें स्नातकोत्तर हिदी विभाग में भेज दिया गया है।

------------

आरोपित कर्मचारियों का भी हुआ स्थानांतरण

आरा: वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय प्रशासन ने जिन 16 कर्मचारियों के टेबुल को बदला गया। है, उसमें कई कर्मचारी ऐसे भी हैं, जिन्हें पहले उस विभाग में गड़बड़ी करने का आरोप लगाया गया था। निम्न वर्गीय कर्मचारी उपेन्द्र कुमार का स्थानांतरण करीब आठ माह पूर्व संबंधन विभाग से कुलानुशासक विभाग में किया गया था, उन पर संबंधन विभाग में सही तरीके से नहीं करने का आरोप लगाया गया था। इसको लेकर उनको कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था। श्री कुमार ने बताया कि पहले विवि प्रशासन को हमें पूर्व के आरोपों से बरी करना चाहिए। इसके बाद संबंधन विभाग में भेजना चाहिए था। उन्होंने बताया कि मैंने जो स्पष्टीकरण विवि को सौंपा है, उसे फाइलों में दबा दिया गया।

-----------

इन कर्मचारियों को निम्न विभाग में भेजा

आरा: उदय शंकर ओझा को स्थापना, उदय नारायण राम को स्नातकोत्तर हिदी विभाग, उपेंद्र कुमार को संबंधन विभाग, दीपेंद्र कुमार को पत्र-प्रेषण विभाग, नागेंद्र सिंह को वित्तीय परामर्शी विभाग, फौजिया बानो को संबंधन शाखा विभाग, रामनाथ सिंह को कुलानुशासक कार्यालय, अवधेश कुमार को परीक्षा विभाग, बबिता कुमारी को वित्त पदाधिकारी कार्यालय, विदु कुमारी को पीजी गणित विभाग, रामजी सिंह को पीजी भोजपुरी विभाग, फरहान हक को संबंधन विभाग, सुरेंद्र पासवान को कुलपति कार्यालय, सुबोध मण्डल को पीज भूगोल, मोहन उपाध्याय को पेंशन विभाग और मंजु कुमारी को संबंधन विभाग में तत्काल पदभार ग्रहण करने का आदेश दिया गया है।

-------

अनुकंपा के 10 कर्मचारियों ने लिया योगदान

जासं, आरा: वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों में शुक्रवार को अनुकंपा के 10 अभ्यर्थियों ने योगदान दिया। इस तरह से विवि में कर्मचारियों की संख्या बढ़कर 50 हो गई। इसमें सभी श्रेणी के कर्मचारी शामिल हैं। सभी अभ्यर्थियों को विगत सप्ताह में आयोजित अनुकंपा समिति की बैठक में तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के पद पर योगदान देने का निर्णय लिया गया था। कुलसचिव कर्नल श्यामानंद झा ने बताया कि विवि में 12 अभ्यर्थियों को अनुकंपा के आधार पर योगदान करने का निश्चिय किया गया था। इसमें एक अभ्यर्थी आज नहीं आए हैं। उनका योगदान बाद में करा दिया जाएगा। वहीं दूसरे अभ्यर्थी के पास स्नातकोत्तर की योग्यता है। इसलिए उन्हें तृतीय वर्ग में योग्यता के अनुसार योगदान देने के लिए राजभवन से इजाजत ली जाएगी। बता दें कि अनुकंपा पर नियुक्ति विवि में रिक्त पद तृतीय एवं चतुर्थ श्रेणी में ही योगदान कराया जा सकता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस