जागरण संवाददाता, भागलपुर। जिला परिषद के अध्यक्ष पद पर अनंत कुमार (टुनटुन साह) ने दूसरी बार कब्जा जमा लिया है। उन्होंने सबौर के जयप्रकाश मंडल को पराजित किया। अनंत कुमार को 21 व जयप्रकाश मंडल को दस मत मिले। अनंत कुमार लगातार दूसरी बार शाहकुंड पश्चिमी क्षेत्र से चुनाव जीते हैं। जबकि जयप्रकाश मंडल सबौर उत्तरी सीट से पहली बार जिला परिषद सदस्य बने हैं। अनंत कुमार के प्रस्तावक पीरपैंती मध्य के जिला परिषद सदस्य कैलाश यादव थे, जबकि समर्थक कहलगांव दक्षिणी क्षेत्र की सदस्य सोनी कुमारी थी। जयप्रकाश मंडल का प्रस्ताव जगदीशपुर उत्तरी क्षेत्र के जिला परिषद सदस्य शिव कुमार प्रस्तावक बने थे और नाथनगर उत्तरी क्षेत्र से जिला परिषद सदस्य धनंजय कुमार समर्थक बने थे। पीरपैंती उत्तरी पूर्व क्षेत्र से जिला परिषद सदस्य चुने गए प्रणव कुमार (पप्पू यादव) जिला परिषद उपाध्यक्ष के पद पर जीत दर्ज की है। उन्होंने नाथनगर दक्षिणी क्षेत्र से जिला परिषद सदस्य मिथुन कुमार को हराया। प्रणव कुमार को 16 मत मिले, जबकि मिथुन कुमार को 15 मत मिले।

समाहरणालय स्थित समीक्षा भवन में बुधवार जिला निर्वाचन पदाधिकारी (पंचायत) सह जिलाधिकारी सुब्रत कुमार सेन एवं अधीक्षण अभियंता (सिंचाई प्रमंडल, भागलपुर) सह प्रेक्षक सियाराम पासवान की उपस्थिति में जिला परिषद सदस्यों को सबसे पहले पद व नशा मुक्ति की शपथ दिलाई गई। दोपहर 12 बजे के बाद अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हुई। जिला परिषद अध्यक्ष पद के लिए अनंत कुमार एवं जयप्रकाश मंडल ने नामांकन पत्र दाखिल किया। स्क्रुटनी के बाद अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए मतदान की प्रक्रिया प्रारंभ हुई। मतगणना के बाद जिला परिषद अध्यक्ष पद अनंत कुमार को विजयी घोषित किया गया। नव निर्वाचित जिला परिषद अध्यक्ष को जिला निर्वाचन पदाधिकारी (पंचायत) सह जिलाधिकारी द्वारा पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। इसी प्रकार जिला परिषद उपाध्यक्ष पद पर प्रणव कुमार एवं मिथुन कुमार द्वारा नामांकन पत्र दाखिल किया गया। मतगणना के बाद प्रणव कुमार उपाध्यक्ष घोषित कर दिया गया।

जिला परिषद अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष पदों पर चुनाव के लिए मतदान प्रक्रिया में 31 जिला परिषद सदस्यों- रेणु चौधरी, मो. मोइन राइन, उषा देवी, गौरव कुमार राय, पीयूष कुमारी, नंदनी सरकार, विपिन कुमार मंडल, कुमारी गुडिय़ा, शबाना आजमी, आशा जायसवाल, अरुण कुमार दास, कंचन देवी, अनंत कुमार, धनंजय कुमार, मिथुन कुमार, शिव कुमार, हासिम दिलकश, जयप्रकाश मंडल, मो. आफताब आलम, कहकशां, दिव्या सिंह, रिंकू सिन्हा, जनार्दन प्रसाद आजाद, प्रेमलता देवी, सोनी कुमारी, विक्की रानी, कैलाश यादव, परवेज आलम, नाजनीं नाज, रामानंद कुमार ने भाग लिया। निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान अपर समाहर्ता राजेश झा राजा, उप निर्वाचन पदाधिकारी श्वेता कुमार, विशेष कार्य पदाधिकारी, जिला जनसपंर्क पदाधिकारी आलोक कुमार भी उपस्थित थे।

जिला परिषद सदस्य दो खेमे में बंटकर पहुंचे शपथ ग्रहण समारोह में

शाहकुंड पश्चिम क्षेत्र के जिला परिषद सदस्य अनंत कुमार (टुनटुन साह) बुधवार को 20 सदस्यों के साथ सिलीगुड़ी से समाहरणालय स्थित समीक्षा भवन पहुंचे। माथे पर मंगल टीका लगाए और चेहरे पर मुस्कान लिए अनंत कुमार ने अपने समर्थकों के साथ समीक्षा भवन के अंदर प्रवेश किया। इसी दौरान यह साफ हो गया था कि अनंत कुमार का अध्यक्ष बनना तय है। वहीं, सबौर के जयप्रकाश मंडल ने अपने दस समर्थकों के साथ समीक्षा भवन के अंदर प्रवेश किया। जयप्रकाश मंडल के साथ-साथ उनके समर्थकों के चेहरे पर ठंड में भी पसीना साफ नजर आ रहा था।

अनंत कुमार के समर्थक पूरी तैयारी के साथ समाहरणालय परिसर के बाहर खड़े थे। हर समर्थकों के हाथ में माला और अबीर था। ढोल-नगाड़े लगातार बजाए जा रहे थे, जबकि दूसरे खेमे में शांति थी। जैसे-जैसे समय बीत रहा था, ढोल-नगाड़े की आवाज और तेज हो रही थी। एक बजकर 50 मिनट पर समीक्षा भवन से अनंत कुमार अपने समर्थकों के साथ निकले और अध्यक्ष फिर से चुन लिए जाने की घोषणा की। इसके बाद समर्थकों का उत्साह चरम पर पहुंच गया। सड़कों पर मिठाई बंटने लगी। एक-दूसरे को अबीर लगाए जाने लगे। अनंत कुमार के समर्थकों के पास पहुंचने के साथ ही उन्हें माला से लाद दिया गया। जिंदाबाद के नारे लगने लगे। जयप्रकाश मंडल के खेमे के लोग चुपके से समीक्षा भवन से निकल गए।

समर्थकों के बीच से पत्नी के पास पहुंचे टुनटुन

एक और समर्थक टुनटुन साह की जीत पर मिठाई बांटने और अबीर उड़ाने में मशगूल थे, वहीं दूसरी ओर टुनटुन घर में बेसब्री से इंतजार कर रहे पत्नी के पास पहुंच गए। टुनटुन की पत्नी मेयर सीमा साहा ने अपने पति का घर के दरवाजे पर स्वागत करते हुए आरती उतारी और तिलक लगाया। अपने पति के साथ-साथ उनके साथ गए समर्थकों को मिठाई खिलाई।

अपने पति के समर्थकों से संपर्क में थी सीमा

मेयर सीमा साहा जीत की घोषणा होने तक अपने पति अनंत कुमार के समर्थकों के संपर्क में थी। वह लगातार चुनाव से संबंधित जानकारी ले रही थी। हर आधे घंटे पर समर्थकों को फोन कर रही थी। जीत तय होने के बावजूद सीमा यह जानने को आतुर थी, आखिर हुआ क्या? उन्हें दोपहर डेढ़ बजे के बाद बताया गया कि टुनटुन भैया जीत गए। इसके बाद सीमा ने राहत की सांस ली।

Edited By: Dilip Kumar Shukla