भागलपुर, जेएनएन। शाहकुंड प्रखंड के दरियापुर गांव में भागवत कथा के सातवें दिन कथावाचक स्वामी अनंताचार्य जी महाराज (वृंदावन) ने कृष्ण लीला के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि जिस दिन श्री कृष्ण का जन्म हुआ था। जन्म के बाद वासुदेव और देवकी कारागार में जो बंद थे, लेकिन अपने आप कारागार का दरवाजा खुल गया और दोनों की बेडिय़ां भी अपने आप खुल गईं। उसके बाद रातों-रात वासुदेव ने यशोदा के यहां श्रीकृष्ण को पहुंचा दिया था और यशोदा के यहां पुत्री का जन्म हुआ था उस पुत्री लेकर वासुदेव मथुरा आ गए। बाद में कंस को सूचना मिली कि देवकी को लड़की पैदा हुई है।

महराज जी ने कथा में श्री कृष्ण बाल लीला जैसे कालिया नाग के फन पर नृत्य, गोपियों के साथ रासलीला भी की आदि बिंदुओं पर चर्चा स्वामी जी द्वारा किया गया। वहीं मटके भी फोडऩे का रस्म भी किया गया। छोटे-छोटे बच्चों ने श्री कृष्ण, राधा आदि गोपियों का रूप धारण किया था। कथा के दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने खुद श्रद्धालुओं पर फूलों की वर्षा की। साथ ही महिलाएं व पुरुष भी जमकर अपने-अपने स्थान पर थिरकते नजर आएं। इस मौके पर भाजपा नेता अजृत शाश्वत चौबे, अविरल शाश्वत, अतिशय व आकृष्ट ने भी लोगों के ऊपर फूल बरसायें।

वहीं भजन मंडली के कलाकार ने भी अपनी प्रस्तुति से लोगों को मंत्र मुग्ध कर दिया। मौके पर मुख्य यजमान सुभाष चौबे, उज्जवल चौबे, रघुनंदन चौबे, खगेश चौबे आदि मौजूद थे। इस अवसर पर हजारों की संख्या में श्रद्धालु दूर-दराज से पहुंचे थे।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस