ललन राय, भागलपुर/नवगछिया:  जिले के एक सरकारी स्कूल के दो दर्जन से ज्यादा बच्चे बीमार हो गए। आनन-फानन में उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया। अलग-अलग जगह इलाजरत बच्चे जैसे ही स्कूली ड्रेस में पहुंचे, चिकित्सकों के भी होश उड़ गए। उल्टी और दस्त से बच्चों की हालत पस्त हो गई। मामला नवगछिया के झल्लू दास टोला मध्य विद्यालय दुर्गास्थान का है। बताया जाता है कि मध्यान भोजन (मिड डे मील) खाने के बाद लगभग 2 दर्जन से अधिक बच्चे हो गए। बीमार कई बच्चों का अलग-अलग जगहों पर इलाज के लिए ले जाया गया।

  • मिड डे मील खाने के बाद लगभग 2 दर्जन से अधिक बच्चे हुए बीमार
  • इलाके में मची अफरा-तफरी, निजी अस्पताल से लेकर सरकारी अस्पताल में हो रहा बच्चों को इलाज ।
  • एक डाक्टर अस्पताल पहुंचे, अनुमंडल पदाधिकारी ने बताया कि मामले की जानकारी है। डॉक्टरों की टीम लगी हुई है, स्कूल एवं अस्पताल में भी व्यवस्था की जा रही है।
  • सिविल सर्जन पहुंचे अस्पताल।
  • मध्यान भोजन डीपीओ जिला शिक्षा पदाधिकारी पहुंचे अस्पताल
  • अस्पताल में अफरा-तफरी का माहौल है
  • बीडीओ रंगरा बच्चे की तबीयत का जायजा लेने पहुंचे।

नवगछिया के रंगरा प्रखंड अंतर्गत झल्लू दास दुर्गा मंदिर मध्य विद्यालय के लगभग 2 दर्जन से अधिक स्कूली छात्र मध्यान भोजन खाने के बाद बीमार हो गया बच्चे उल्टी दस्त इतना अधिक करने लगे, जिससे विद्यालय में अफरा-तफरी मच गई। घटना की सूचना स्थानीय शिक्षकों के द्वारा छात्रों के अभिभावकों एवं स्थानीय जनप्रतिनिधियों को दिया गया। इसके बाद अपने सहयोग से लोगों ने बच्चों को निजी चिकित्सालय एवं सरकारी अस्पताल पहुंचाया।

जानकारी के मुताबिक गुरुवार को मध्यान्ह भोजन के भोजन तालिका के अनुसार चावल दाल सब्जी था, जिसे सभी बच्चों ने खाया लेकिन इसमें से कुछ बच्चे खाने के उपरांत उल्टी दस्त होने लगा जिसमें अंकुश कुमार कक्षा-4, संजना कुमारी कक्षा-5, प्रिंस कुमार कक्षा-3, अजय कुमार एवं कई बच्चे मध्यान भोजन खाने के बाद बीमार हो गए।

इस घटना के बाद प्रभारी प्रधानाध्यापक के द्वारा कई बच्चों को 83 निजी चिकित्सालय एवं रंगरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। प्रभारी प्रधानाध्यापक रामोतार पासवान ने बताया कि घटना की जानकारी बड़े पदाधिकारियों को दी गई है। मध्यान्ह भोजन किस तरह से बनाया गया था हम लोग भी जांच कर रहे हैं।

Edited By: Shivam Bajpai