भागलपुर, जेएनएन। यात्री ट्रेनों का परिचालन शुरू होगा तो भागलपुर-मंदारहिल-बांका सेक्शन पर डीएमयू (डीजल इंजन के साथ रैक) वाली ट्रेनें नहीं दिखेंगी। अब इस सेक्शन पर डेमू रैक (डीजल मल्टीपल यूनिट) वाली रैक दौड़ाने की तैयारी चल रही है। रेलवे ने इस पर निर्णय ले लिया है, बस ट्रेन परिचालन शुरू होने का इंतजार है।

डेमू रैक के लिए कोई नई समय सारणी नहीं बनी है। जो ट्रेनें अभी चल रही थीं, उसी समय और ठहराव चलेंगी। अभी चल रही पैसेंजर ट्रेनों के इंजन गंतव्य स्टेशन पर बदले जाते हैं। अलग-अलग स्टेशनों में इंजन बदलने और तत्काल रफ्तार पकडऩे में समय लगता है। डेमू रैक से परिचालन होने से रफ्तार में काफी सुधार होगा। इसमें आगे और पीछे दोनों तरफ इंजन लगे होते हैं। स्टेशन से ट्रेन छूटते ही रफ्तार पकड़ती है, जबकि पैसेंजर ट्रेनों को कुछ समय लगता है।

डेमू के कोच में ज्यादा सीटें

पैसेंजर ट्रेन के एक साधारण कोच में 90 सीटें होती हैं, जबकि डेमू रैक के एक कोच में 112 सीटें होती हैं। इसमें सीटिंग के साथ यात्रियों के खड़े रहने के लिए पर्याप्त जगह होती है। अत्यधिक भीड़ होने पर भी अव्यवस्था नहीं होती।

एक-दूसरे कोच में आ-जा सकते हैं

डेमू रैक में यात्री चलती ट्रेन में भी एक कोच से दूसरे कोच में जा सकेंगे। सभी कोच एक दूसरे से जुड़े रहेंगे। यात्री और वेंडर के सामान रखने के लिए अलग-अलग जगह रहेगी। इसमें अधिकतम 10 और न्यूनतम छह कोच रहेंगे।

 

Edited By: Dilip Shukla