भागलपुर। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एके राय के आश्वासन पर प्रशासनिक भवन के विभिन्न शाखाओं में कार्यरत कर्मचारी कलमबंद हड़ताल समाप्त कर मंगलवार की दोपहर से काम पर लौट गए हैं।

कुलपति ने कर्मचारियों के लिए फैक्स से संदेश भेजा और कुछ कर्मियों से बात भी की। कर्मचारियों ने कुलसचिव पर कार्रवाई करने की मांग को लेकर हड़ताल की थी। इस वजह से प्रशासनिक भवन की सभी शाखाओं में कामकाज ठप हो गया था। विवि शिक्षकेतर कर्मचारी संघ के महासचिव रंजीत यादव ने कहा है कि कुलपति ने वार्ता के लिए 25 अक्टूबर का समय दिया है। उनके आग्रह पर हड़ताल स्थगित कर दी गई है। सभी कर्मचारी काम पर लौट गए हैं।

कर्मचारियों और कुलसचिव के बीच तनाव कायम

विवि कर्मचारियों और कुलसचिव के बीच तनाव कायम है। मालूम हो कि कुलसचिव कर्नल अरुण कुमार सिंह पर अपने कार्यालय के सहायक राजीव कुमार को गाली देने का आरोप लगाकर कर्मचारियों ने 21 अक्टूबर से कामकाज ठप कर दिया था। मंगलवार को कर्मचारियों ने उपस्थिति बनाई लेकिन काम नहीं किया और धरने पर बैठ गए।

प्रतिकुलपति और कुलसचिव के समझाने का असर नहीं

धरना पर बैठे कर्मचारियों को प्रतिकुलपति प्रो. रामयतन प्रसाद और कुलसचिव बारी-बारी से समझाने के लिए गए। लेकिन कोई असर नहीं हुआ। तब बीएनएमयू से कुलपति प्रो. राय ने फैक्स संदेश भेजकर कर्मचारियों से आग्रह किया कि वे 25 अक्टूबर को भागलपुर आएंगे तब पूरे मामले पर बात करेंगे। तब तक वे काम पर लौट जाएं। जब कुलपति ने काम पर लौटने की अपील को तो कर्मचारी मान तो गए। कर्मचारियों ने शर्त रखी कि 25 अक्टूबर को कुलसचिव के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो वे लोग फिर से काम ठप कर देंगे। कर्मचारियों की एकमात्र माग कुलसचिव को हटाने की है। जब कुलसचिव कर्मचारियों के पास गए और उन्हें समझाने का प्रयास किया तो नाराज कर्मचारियों ने उनकी बात सुनने से मना कर दिया।

कुलसचिव ऑफिस में की गई वैकल्पिक व्यवस्था

जब कर्मचारी काम पर वापस लौटने को तैयार हो गए तो कुलसचिव ऑफिस के कर्मियों ने उनके साथ काम करने से मना कर दिया। कर्मचारियों ने प्रतिकुलपति से कहा कि कुलपति के आने तक वे लोग वहां काम नहीं करेंगे। बताया गया कि प्रतिकुलपति ने कुलसचिव कार्यालय के लिए तीन कर्मचारियों की वैकल्पिक व्यवस्था की।

प्रतिकुलपति के कक्ष के सामने छात्रों का प्रदर्शन

तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय का प्रशासनिक भवन मंगलवार को हंगामा और नारेबाजी का केंद्र बना रहा। विवि में परीक्षाफल की जानकारी लेने के लिए दूसरे कॉलेजों से बड़ी संख्या में छात्र और छात्राएं आई थीं। परीक्षा विभाग के कर्मचारियों की हड़ताल होने के कारण यहां पहु़ंचे छात्र-छात्राओं ने प्रतिकुलपति के कक्ष के सामने प्रदर्शन किया। छात्राएं हड़ताल समाप्त होने के इंतजार में सीढि़यों पर बैठी रहीं। बाद में प्रतिकुलपति के हस्तक्षेप से मामला शांत हुआ।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप