भागलपुर [जेएनएन]। भोलानाथ पुल के नीचे जलजमाव से लोगों को शीघ्र राहत मिल जाएगा। प्रशासन ने भोलानाथ पुल के ऊपर प्रस्तावित फ्लाईओवर निर्माण की प्रक्रिया तेज कर दी है। 117 करोड़ की लागत से मिरजानहाट शीतला स्थान से भीखनपुर गुमटी नंबर दो तक 1110 मीटर लंबे फ्लाईओवर बनेगा। फ्लाईओवर बनने दौरान कई लोगों के मकान भी दायरे में आएंगे। इन्हें चिह्नित करते हुए पटना की ट्रांसटेक एजेंसी ने फ्लाईओवर का खाका तैयार कर लिया है। अगस्त के प्रथम सप्ताह में एजेंसी डिटेल्ड प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) सौंप देगी। मुख्यालय से स्वीकृति मिलने पर टेंडर प्रक्रिया अपनाई जाएगी। दिसंबर के अंत तक काम शुरू हो जाएगा।

रेलवे से मिल चुका है अनापत्ति पत्र

फ्लाईओवर के लिए मिरजानहाट शीतला स्थान चौक से बौंसी लाइन के बीच कम जमीन की जरुरत होगी। यहां पहले से ही बिहार सरकार और रेलवे की जमीन है। रेलवे की जमीन के लिए अनापत्ति पत्र मिल चुका है। बिहार सरकार की जमीन पर लोगों ने घर बना लिया है। जिसे डीपीआर तैयार करते वक्त चिन्हित कर लिया गया है। कुछ लोगों को जमीन खाली करने के लिए नोटिस किया गया है। इशाकचक से भीखनपुर के बीच सरकारी जमीन कम है। इस क्षेत्र में ज्यादा जमीन का अधिग्रहण होना है।

2011 तक बन कर तैयार होना था फ्लाईओवर

दक्षिणी क्षेत्र के लोगों की समस्याओं को देखते हुए लगभग बारह साल पहले ही भोलानाथ पुल के ऊपर फ्लाईओवर बनाने की सरकार ने योजना बनाई थी। जिसे वर्ष 2011 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था। लेकिन, रेलवे की जमीन के उपयोग के लिए अनापत्ति पत्र नहीं मिलने से उस वक्त काम शुरू नहीं हो सका।

लोगों को घंटों जाम से नहीं जूझना पड़ेगा

भोलानाथ पुल के ऊपर फ्लाईओवर बन जाने से लोगों को नाली के गंदे पानी से होकर नहीं गुजरना पड़ेगा। साथ ही जाम की समस्या का भी समाधान हो जाएगा। पुल के नीचे जलजमाव की वजह से हर दिन घंटों लोगों को जाम से जूझना पड़ता है।

इन मुहल्ले के लोगों को सबसे बड़ी राहत

बरसात शुरू होते ही मोहद्दीनगर, मिरजानहाट, क्लबगंज, बबरगंज, सिकंदरपुर, शिवपुरी कॉलोनी, इशाकचक, लालूचक, एलआइसी कॉलोनी, बबरगंज समेत शहर के दक्षिणी क्षेत्र में रह रहे लोगों को हर दिन जाम और जलजमाव की समस्या से जूझना पड़ता है। फ्लाईओवर के निर्माण से इस इलाके में रह रहे लगभग दो लाख लोगों का आवागमन सुगम हो जाएगा।

राम सुरेश राय (वरीय परियोजना अभियंता, पुल निर्माण निगम) ने कहा कि डीपीआर को प्रशासनिक स्वीकृति मिलने के बाद टेंडर की प्रक्रिया अपनाई जाएगी। भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है। सरकारी जमीन से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई होगी।

खास बातें

-फ्लाईओवर की चौड़ाई-8.4 मीटर यानी

-फ्लाईओवर की लंबाई : 1110 मीटर

-डिक्शन मोड़ के पास बनेगा पहुंच पथ

-निर्माण की राशि : 117 करोड़ रुपये

-भूमि अधिग्रहण पर खर्च होंगे 45 करोड़

 

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस