संवाद सूत्र, नवहट्टा (सहरसा): जिले के नवहट्टा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कई राजनीतिक हस्तियों और एक्टर के बाद मुर्दे को भी कोरोना का वैक्सीन लगा दी गई है। यही नहीं, मरने के बाद दूसरा डोज और बूस्टर डोज भी दे दिया गया है। मामले में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने संबंधित कर्मी से स्पष्टीकरण पूछा है। बिहार के इस अनोखे कारनामे की चर्चा अब तेजी के साथ होने लगी है। इसे ब्लंडर ही कहा जा रहा है कि पीएम मोदी और राहुल गांधी को वैक्सीन लगाने वाले इस स्वास्थ्य केंद्र में अब मुर्दे को बूस्टर डोज दिया गया है। 

चिकित्सा पदाधिकारी के पिता की हुई एंट्री

नवहट्टा में पदस्थापित चिकित्सा पदाधिकारी डा. संजीव कुमार सिंह के पिता डा. वीरेंद्र नारायण सिंह की मृत्यु मई 2021 में ही हो गयी थी। इन्हें पहला डोज नौ अप्रैल 2021 को, दूसरा डोज 21 अगस्त 2021 को एवं बूस्टर डोज 23 जनवरी 2022 को दिया गया है। जब मई में ही इनकी मौत हो गई तो अगस्त में इन्हें दूसरा डोज व जनवरी में बूस्टर डोज कैसे दिया गया। प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी वीरेंद्र कुमार ने मामले का पर्दाफाश होने पर वेरिफायर से स्पष्टीकरण पूछा है।

  • -नवहट्टा सीएचसी में मुर्दे को भी लगाया गया कोरोना वैक्सीन
  • - नवहट्टा में पदस्थापित डाक्टर के पिता की मौत के बाद लगाया गया टीका
  • - प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने पूछा स्पष्टीकरण

वेरिफायर मु. अरशद आलम ने दिए जवाब में कहा है कि चिकित्सा पदाधिकारी डा. संजीव कुमार सिंह उन्हें अपने पिता के आधार कार्ड की फोटो कापी सौंपते हुए कहा कि इन्होंने तीसरा डोज ले लिया है। लेकिन इसका मैसेज नहीं आया है। चेक कर इसके संबंध में पूरी जानकारी दो। इसी क्रम में गलती से वैक्सीनेटेड बटन दब गया। जिस कारण इंट्री हो गया। उल्लेखनीय है कि नवहट्टा में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, अभिनेत्री राखी सावंत तक को कोरोना का वैक्सीन दे दिया गया था। कोविन एप के पीडीएफ फाइल में इनलोगों का नाम रहने के बाद स्वास्थ्य महकमा द्वारा जांच कराई गई थी। मामले में कार्रवाई भी की गई थी।

नवहट्टा सीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी वीरेंद्र कुमार ने कहा, 'मृत व्यक्ति का कोरोना का बूस्टर डोज देने के मामले की जांच की जा रही है। चिकित्सा पदाधिकारी की भूमिका भी संदेहास्पद है। जांच कर दोषी के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।'

Edited By: Shivam Bajpai