भागलपुर [जेएनएन]। मोजाहिदपुर इलाके के सिकंदपुर में इंद्रदेव पासवान के पुत्र रौशन वर्मा (15) ने सोमवार की रात अपने कमरे में फंदा लगाकर खुदकशी कर ली। वह सिकंदरपुर स्थित इंडियन पब्लिक स्कूल का छात्र था। उसने हाल ही में चौहान पब्लिक स्कूल से 10वीं की परीक्षा दी थी। मां ने बताया कि मंगलवार की सुबह जब वह टहलने के लिए निकल रही थी। तभी उन्होंने अपने बेटे को उठाने के लिए आवाज लगाई। जवाब नहीं मिलने पर खिड़की खोलकर झांका तो वह फंदे से झूल रहा था। मोजाहिदपुर पुलिस ने रौशन के शव को फंदे से उतारा। प्रथम दृष्टया पुलिस की जांच में मामला प्रेम प्रसंग का सामने आया है।

दो दिनों से था परेशान : मां के मुताबिक रौशन दो दिनों से काफी परेशान था। सोमवार को उसका फोन भी टूट गया था। कारण पूछने पर उसने कुछ नहीं बताया। वह ठीक से खाना पीना भी नहीं खा रहा था। शाम में उसे खाना खाने के लिए कहा तो वह गुस्से में आया गया। देर रात 11.00 बजे तक उसने अपने ग्राउंड फ्लोर स्थित अपने कमरे में लैपटॉप पर भी फिल्म भी देखी है। यह देख सभी सोने चले गए। लेकिन सुबह उठने पर उन लोगों ने फंदे पर लटका देखा। उसने सीसीटीवी लगाने के लिए प्रयोग में लाने वाले केबल से गले में पंखा से फंदा लगाया था। उसका भाई सीसीटीवी लगाने का काम करता है। रौशन के पिता शाह मार्केट में कबाड़ी की दुकान चलाते हैं।

रौशन की दोस्त ने परिवार समेत छोड़ा घर : कुछ लोगों ने बताया कि रौशन की उसके साथ पढ़ने वाली एक किशोरी से दोस्ती थी। वह सिकंदरपुर में ही परिवार के साथ कमरे में रहती थी। लेकिन तीन दिन पहले उससे अनबन होने के कारण वह काफी तनाव में रह रहा था। उसने खुद ही अपना फोन तोड़ दिया था। वहीं लोगों ने बताया कि रौशन के मौत की सूचना मिलते ही किशोरी और उसके परिवार वालों ने अपना कमरा छोड़ दिया। दोस्तों के मुताबिक रौशन ने खुदकशी के पूर्व अपने सोशल साइट को बंद कर दिया। रौशन की मौत पर मां और पिता की बुरी हालत है। वे लोग घर में बदहवास पड़े हुए हैं।

 

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस