भागलपुर। उर्दू बाजार में चार नवंबर को हुई केंद्रीय काली पूजा समिति के महामंत्री चिरंजीवी उर्फ धुरी यादव की गोली मारकर हत्या मामले में एसआइटी ने लाइनर का काम करने वाले किशोर यादव को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया है। उसके पास से एक मोबाइल बरामद हुआ है। वह मीटर रीडर का काम करता था।

किशोर घटना की शाम धुरी के घर से निकलते ही लगातार शूटरों के संपर्क में था। जिस समय धुरी यादव भोला सिंह के घर से लौट रहे थे, उस समय वाजिद अली लेन जाने वाले त्रिमुहान के रास्ते पर किशोर ने ही बदमाशों को धुरी के बारे में इशारा किया था। यह जानकारी एसएसपी आशीष भारती ने शनिवार को प्रेसवार्ता के दौरान दी।

किशोर यादव के चाचा प्रकाश यादव नवगछिया के ढोलबज्जा में कई वर्ष पूर्व दुर्घटना के शिकार हो गए थे। उन्हें गंभीर हालत में मायागंज अस्पताल लाया गया था। वहां उन्होंने दम तोड़ दिया था, लेकिन इस मौत को किशोर और उसका परिवार हत्या बता रहे थे। उनका कहना था कि प्रकाश यादव को धुरी यादव ने अस्पताल में जहर की सुई देकर मार डाला था। इस घटना के कुछ दिन बाद प्रकाश के साथी सुनील यादव की हत्या हो गई। उसकी हत्या में भी वह धुरी यादव को जिम्मेवार मानता है। काम होने पर एक कट्ठा जमीन देने का किया था वादा

पुलिस को किशोर यादव ने कई चौंकाने वाली जानकारियां दी है। किशोर को लाइनर का काम करने के लिए काली मंदिर के समीप एक कट्ठा जमीन देने की तैयारी थी। इसी शर्त पर वह धुरी यादव की रेकी करने के लिए तैयार हुआ था। पुलिस उसके बताए बयान के आधार पर सत्यता का पता लगा रही है। एसआइटी इस मामले में अन्य बिंदुओं को पर जांच कर रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस