संवाद सूत्र, महिषी (सहरसा)। सहरसा के महिषी थाना में कार्यरत चौकीदार गुरूदेव पासवान के पुत्र मनीष कुमार से प्रेम विवाह करना कामनी कुमारी को महंगा पड़ गया। ससुराल वालों ने बिना दहेज के घर पहुंची पुत्रवधू को स्वीकार करने से इंकार ही नहीं किया बल्कि मंगलवार की दोपहर उसकी हत्या कर दी।

सूचना मिलते ही थानाध्यक्ष राजेश कुमार सदलबल घटनास्थल पर पहुंचे और मामले की छानबीन शुरू की। जबकि चौकीदार के सभी स्वजन घर छोड़कर फरार हो गये। घटना की गंभीरता को देखते हुये वरीय अधिकारी के निर्देश पर बनगांव थानाध्यक्ष कमलेश कुमार स‍िंह, नवहट्टा थानाध्यक्ष परशुराम कुमार, जलई ओपी अध्यक्ष संजय दास भी सदलबल पहुंचकर घटनास्थल पर कैंप कर रहे हैं।

जानकारी के अनुसार चौकीदार पुत्र को मधुबनी जिला के घोघरडीहा थाना क्षेत्र के जयपट्टी निवासी रामचन्द्र पासवान की पुत्री कामिनी कुमारी से प्यार हो गया था। चार वर्ष से चल रहे प्रेम प्रसंग के बाद प्यार इस कदर परवान चढ़ा कि दोनों ने अक्टूबर 2021 में झंझारपुर न्यायालय में पहले शादी की फिर मंदिर में विवाह किया। लेकिन पुत्र द्वारा इस प्रकार शादी किये जाने से माता-पिता नाराज हो गए और कामिनी को पुत्रवधू मानने से इंकार करते रहे। इस बीच मनीष और कामिनी भी विभिन्न स्थलों पर रहकर अपने वैवाहिक जीवन व्यतीत करते रहे। कामिनी अपने अधिकार के लिए महिला हेल्पलाइन सहित थाना का भी चक्कर काटती रही।

पति ने ससुराल जाने का दिया था दबाव

पिछले दो माह से मनीष व कामिनी सहरसा में एक गेस्ट हाउस में रह रहे थे। 15 दिन पूर्व कामिनी एक बार फिर पस्तवार पहुंची और अपने ससुराल जाने के लिए प्रयास करने लगी। पस्तवार में वो अपनी ममेरी बहन के घर रुकी थी। सोमवार को मनीष ने उसे सहरसा से फोन कर घर जाने को कहा साथ ही ये आश्वस्त किया उसके घर के लोग मान गए हैं और वो उसके घर में रह सकती है। पति के कहने के बाद वो सोमवार की रात अपने ससुराल पहुंची थी जहां मंगलवार की दोपहर उसकी हत्या कर दी गयी। कामिनी के भाई परमानंद पासवान ने बताया कि उनके घर वालों द्वारा कामनी की शादी वर्ष 2019 में मधुबनी जिला के जरौली गांव में करवायी थी। जहां से मनीष के साथ वो भाग गयी और उसके साथ रहने लगी थी। मंगलवार को पस्तवार गांव से फोन पर बहन की हत्या की सूचना मिली।

प्रथम दृष्टया हत्या का मामला प्रतीत हो रहा है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही हत्या का खुलासा हो पाएगा। कामिनी द्वारा महिषी थाना में प्रताडऩा को लेकर एक भी आवेदन नहीं दिया गया था। - राजेश कुमार, थानाध्यक्ष

Edited By: Dilip Kumar Shukla