भागलपुर, जेएनएन। जिला परिषद (जिप) सदस्य गौरव राय के भाई रितुध्वज उर्फ सोनू राय हत्याकांड में मुख्य आरोपित राकेश राय ने कई और सुराग एसटीएफ को दिए हैं। उसकी निशानदेही पर एसटीएफ ने पुलिस के साथ संयुक्त ऑपरेशन में हत्याकांड में शामिल तुलसीपुर, खरीक के मनीष कुमार उर्फ झाबो राय और बभनपुरा निवासी संजो सिंह के बेटे अमर सिंह को गिरफ्तार किया है। झाबो राय को उसके ससुराल पूर्णिया जिले के रामबाग इलाके से गिरफ्तार किया है। उसके पास से मृतक सोनू राय का पर्स, एटीएम, आधार कार्ड, समेत अन्य कागजात बरामद किया है। यह जानकारी एसएसपी आशीष भारती ने शुक्रवार को दी है।

संजो सिंह के घर राकेश ने छिपाई थी राइफल

राकेश और झाबो की निशानेदही पर ही पुलिस ने संजो सिंह के घर छापेमारी की। राकेश ने पुलिस को बताया कि उसने सोनू की हत्या के बाद अपनी राइफल (जिसका लाइसेंस पूर्व में रद हो गया है।) और कुछ हथियार संजो के घर ही छिपाकर रखा था। पुलिस ने संजो सिंह के घर से एक कट्टा, 12 गोलियां बरामद की है। वह पुलिस को चकमा देकर भागने में सफल रहा, लेकिन उसका बेटा अमर सिंह पुलिस की गिरफ्त में आ गया। पुलिस ने राकेश के पास से 23 हजार पांच सौ रुपये बरामद किया है।

टीम के लिए करेंगे पुरस्कार की अनुशंसा

एसएसपी ने कहा कि डीआइजी विकास वैभव इस केस की मानीटङ्क्षरग लगातार कर रहे थे। टीम में नवगछिया के एसडीपीओ प्रवेंद्र भारती, नवगछिया थानेदार राजकपूर कुशवाहा, बिहपुर थानेदार रंजीत कुमार, परबत्ता थानेदार रामचंद्र यादव, नदी थानेदार महताब खां समेत एसटीएफ की टीम शामिल थी। इन्हें पुरस्कृत किया जाएगा।

छोटू का मिला था सुराग

एसटीएफ को भाड़े के शूटर छोटुआ का सुराग मिला था। उसने ही सोनू राय के हत्या की सुपारी ली थी। कुछ देरी के लिए वह एसटीएफ के हाथों से बच निकला। हालांकि एसटीएफ ने राकेश राय समेत दो अन्य को पकडऩे में सफलता पा ली। एसटीएफ आइजी सुशील मानसिंह खोपड़े लगातार इस मामले में बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए टीम को लगाए हुए हैं। ताकि जल्द उसे पकड़ा जा सके।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस