भागलपुर, जेएनएन। बिहार में जल-जीवन-हरियाली, नशामुक्ति, बाल विवाह एवं दहेज प्रथा उन्मूलन के खिलाफ रविवार को विश्व की सबसे बड़ी मानव श्रृंखला बनाई जा रही है। पूर्वाह्न 11.30 बजे से दोपहर 12 बजे तक आधे घंटे तक जब 4.27 करोड़ से अधिक लोग एक-दूसरे का हाथ थामे खड़े होंगे, तब 2018 का अपना ही पुराना विश्‍व रिकार्ड तोड़ देंगे। इसके पहले 2017 में शराबबंदी अभियान को सफल बनाने के लिए बिहार में 11292 किमी लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई थी, जिसके रिकार्ड को बिहार वासियों ने दहेज प्रथा एवं बाल विवाह के खिलाफ 13654 किमी लंबी मानव श्रृंखला बनाकर तोड़ा था।

भागलपुर सहित पूर्व बिहार के पांचों जिलों में करीब 45 लाख लोगों ने थामे हाथ

जल-जीवन-हरियाली, नशामुक्ति के समर्थन एवं सामाजिक कुरीतियों के उन्मूलन के लिए भागलपुर के अलावा जमुई, बांका, खगडिया, मुंगेर लखीसराय जिले में उत्सवी माहौल दिखा। सभी जिलों करीब 45लाख लोग एक दूसरे के हाथ पकडकर खडे हुए। सुबह 10 बजे से ही सडकों पर लोगों के आने का सिलसिला शुरु हो गया। म‍हिलाएं, बच्‍चे, कर्मचारी, अधिकारी शिक्ष्‍क और सामाज के सभी वर्ग के लोग सडक के दोनों ओर खडे हुए।

लखीसराय में बनेगी 276 किलोमीटर की मानव श्रृंखला

जल-जीवन-हरियाली, नशामुक्ति के समर्थन में और दहेज प्रथा व बाल-विवाह उन्मूलन को लेकर लखीसराय जिले में 276 किलोमीटर की मानव श्रृंखला बनेगी। इसके लिए 88 किलामीटर मुख्य मार्ग और 188 किलोमीटर सब मार्ग चिह्नित किया गया है। प्रत्येक किलोमीटर पर 1,200 से 1,500 लोगों के शामिल होने का लक्ष्य जिला प्रशासन ने तय किया है।

जिले में तय रूटों पर चार लाख से अधिक लोगों के शामिल होने का अनुमान है। इसमें एक लाख से अधिक सरकारी और निजी विद्यालयों के बच्चे एवं शिक्षक भी शामिल होंगे। सभी सरकारी कार्यालयों के पदाधिकारी और कर्मचारी के अलावे राजग सरकार में शामिल विभिन्न राजनीतिक दल के कार्यकर्ता एवं आम लोग शामिल होंगे। कुल 276 सेक्टर में जिला को बांट कर कार्यक्रम की निगरानी की व्यवस्था की गई है।

पूर्व बिहार के जिलों में मानव शृंखला पूरी तरफ सफल रहा। इसे लेकर भागलपुर, बांका, जमुई, खगडिय़ा, मुंगेर और लखीसराय जिले में उत्सव जैसा माहौल दिखा। निर्धारित समय से एक घंटे पहले 10.30 बजे ही लोग सड़क किनारे बने सफेद पट्टी पर खड़े हो गए। अधिकारी पूरी तरह मानव शृंखला का मॉनीटरिंग करते दिखे। सभी जिलों में करीब 45 लाख लोगों ने मानव शृंखला में बढ़चढ़ हिस्सा लिया। 

ड्रोन कैमरा और वीडियोग्राफर के द्वारा मानव श्रृंखला कार्यक्रम की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी कराई जाएगी। इसके लिए नियंत्रण कक्ष भी बनाया गया है। 

एक ने थामा दूसरे का हाथ, ऐतिहासिक बन गई मानव श्रृंखला

परबत्ता (खगडिय़ा) में जल जीवन हरियाली को लेकर आयोजित मानव श्रृंखला में रविवार को स्कूली छात्र-छात्राओं की भीड़ एनएच 107 पर उमड़ पड़ी। चौथम बीडीओ राजकुमार पंडित, सीओ दयाशंकर तिवारी, इंस्पेक्टर बासुकीनाथ झा, थानाध्यक्ष निलेश कुमार समेत कई अधिकारी एनएच 107 का जायजा लेते दिखे। प्रखंड के खारो धार स्थित जीरो प्वाइंट पर बीएओ संजय कुमार चौधरी, किसान सलाहकार अमृतेश कुमार, अरविंद कुमार आदि मानव बल के साथ श्रृंखलाबद्ध दिखे। करुआमोड़ चौक के समीप एनएच 107 पर भाजपा के पूर्व प्रखंड अध्यक्ष निरंजन प्रसाद सिंह, भाजयुमो के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य अश्विनी कुमार ङ्क्षसह, मनोज भारती, मिथिलेश रजक आदि मानव श्रृंखला में शामिल हुए। उल्लेखनीय है कि प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत प्रखंड कार्यालय से करुआमोड़ तक दो किलोमीटर, खारो धार से बीपी मंडल सेतु तक 14 किलोमीटर व करुआमोड़ से बलहा बाजार तक छह किलोमीटर में मानव श्रृंखला बनी।

बहुत कम संख्या में दिखे जीविका कर्मी व आशा कार्यकर्ता

सरकार की ओर से आयोजित मानव श्रृंखला में जीविका की महिलाएं व आशा कार्यकर्ताओं की बहुत कम उपस्थिति दिखी। बीडीओ राजकुमार पंडित ने बताया कि जीविका के कर्मियों को कई बार बैठक के दौरान उपस्थिति बढ़ाने को कहा गया। लेकिन उपस्थिति कम ही रही। उन्होंने कहा कि उक्त कर्मियों के लिए कई वाहन भी उपलब्ध कराए गए थे। लेकिन जीविका कर्मी उक्त कार्यक्रम में दिलचस्पी नहीं दिखाई। उन्होंने कहा कि विद्यालय के छात्रों, शिक्षक, स्वास्थ्य विभाग के कर्मी आदि ने मानव श्रृंखला में अपनी अहम भूमिका निभाई।

भागलपुर जिले के जगदीशपुर प्रखंड अंतर्गत मध्य विद्यालय बलुआचक के छात्र-छात्राओं ने 19 जनवरी 2020 को मानव श्रृंखला के दौरान एक-दूसरे का हाथ पकड़कर जल-जीवन-हरियाली के समर्थन और नशामुक्ति, बाल विवाह एवं दहेज प्रथा उन्मूलन की शपथ ली। इस दौरान विद्यायल के शिक्षक-शिक्षिकाएं भी मौजूद थे। बिहार में विश्व की सबसे बड़ी मानव श्रृंखला बनाई जा गई। 

मानव श्रृंखला के बाद लगाया स्कूल में पौधा

जल जीवन हरियाली विषय पर मानव श्रृंखला में शिरकत करने के बाद सहरसा के मध्य विद्यालय संथाल टोला एवं उत्क्रमित मध्य विद्यालय गोड़पारा के शिक्षक व बच्चों ने विद्यालय परिसर में पौधरोपण किया। पौधरोपण के जरिए नीतीश कुमार के जल जीवन हरियाली का संदेश घर-घर तक पहुंचाने का प्रयास करने की बात प्रधानाध्यापक संजय कुमार वर्मा ने कही। गोरपाड़ा के प्रधानाध्यापक राधे सहनी के साथ शिव कुमार सागर, आनंद कुमार झा आदि ने भी पौधा लगाया। सीओ अबु अफसर अंचलकर्मी के साथ मानव श्रृंखला में जमे रहे। ब्लाक परिसर से पशुचिकित्सालय के बीच सज्जन चौधरी, मन्टु राय, विनोद मिश्र, बीएओ मनोज कुमार, सीडीपीओ आलोक कुमार आदि खड़े रहे।

पूर्णिया में भी मानव श्रृंखला बनाई गई। खगड़िया एनएच पर मानव श्रृंखला में विधायक पूनम देवी यादव और जदयू जिलाध्यक्ष सोनेलाल मेहता शामिल हुए। 

भागलपुर में सांसद अजय मंडल, राज्यसभा सदस्य कहकशां परवीन, विधायक लक्ष्मीकांत मंडल, गोपाल मंडल, सुबोध राय अपने-अपने क्षेत्र में लोगों के साथ हाथ में हाथ मिलाकर खड़े रहे। यहां 10.34 लाख लोग मानव शृंखला में शामिल हुए। 

मुंगेर जिला की सीमा पर मानव श्रृंखला के दौरान एसडीओ खगेश चंद्र झा, एएसपी हरिशंकर कुमार और धरहरा बीडीओ प्रभात रंजन सक्रिय रहे। कटिहार के बीएमपी मैदान में मानव श्रृंखला के लिए विशेष तैयारी की गई थी। 

परबत्ता में विधायक मानव श्रृंखला में हुए शामिल 
खगडिय़ा के परबत्ता में मानव श्रृंखला में विधायक आरएन ङ्क्षसह शामिल हुए। उन्होंने कहा कि यह ऐतिहासिक मानव श्रृंखला है। शराबबंदी बाद समाज में शांति कायम हुई है। मानव श्रृंखला में जदयू चिकित्सा प्रकोष्ठ के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. संजीव कुमार कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचे। यहां महेशखूंट- अगुवानी पथ के किनारे मानव श्रृंखला बनाई गई। इस मौके पर प्रेम शंकर सिंह उर्फ कल्लू ङ्क्षसह, शिक्षक उदयकांत चौधरी, मुखिया राजीव चौधरी, विधायक प्रतिनिधि शैलेंद्र कुमार शैलेश, जदयू प्रखंड अध्यक्ष ध्रुव कुमार शर्मा, मणिभूषण शर्मा, रामबरन शर्मा, विजय चौधरी आदि मौजूद थे। पसराहा थाना क्षेत्र के एनएच 31 सतीशनगर गांव के पास खगडिय़ा और भागलपुर की मानव श्रृंखला को जोडऩे का काम परबत्ता बीडीओ रविशंकर कुमार और नारायणपुर बीडीओ अजय प्रकाश राय ने किया। इस मौके पर सतीशनगर के बाल्मिकि कुमार, नारायणपुर के श्रीकांत चौधरी, सौढ़ उत्तरी पंचायत की मुखिया संजना देवी आदि मौजूद थे।

जुड़े हाथ से हाथ और बन गया कारवां 

जल जीवन हरियाली अभियान को जन अभियान की शक्ल देने जमुई में रविवार को आम और खास के हाथ से हाथ जुड़े और कारवां बन गया। ढोल नगाड़े और गाजे-बाजे के साथ लोगों ने मानव श्रृंखला में शिरकत कर भविष्य की ङ्क्षचता करने का संकल्प लिया। जिला मुख्यालय में जिला प्रशासन के अधिकारियों और एनडीए नेताओं के अलावा अन्य लोग मानव श्रृंखला में शामिल हुए। अलीगंज में ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने मुख्यमंत्री नीतीश के मुहिम को गति दिया तो चकाई में राजद विधान पार्षद का नीतीश प्रेम झलका और हाथ से हाथ मिला संकल्प लेने की मुहिम में शामिल हुए। सड़कों पर स्कूली बच्चों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं व जीविका के दीदियों ने जगह-जगह रंगोली बनाकर जल जीवन हरियाली अभियान का संदेश दिया। इस दौरान सुरक्षा व्यवस्था की कमान एसडीओ लखींद्र पासवान और एसडीपीओ रामपुकार ङ्क्षसह के अलावा सदर थानाध्यक्ष सुभाष संभालते दिखे। मानव श्रृंखला की तस्वीरों को कैद करता ड्रोन कैमरा भी आकर्षण का केंद्र बना था और हर कोई अपनी तस्वीरें ड्रोन कैमरे में कैद कराने को उत्सुक दिखे। एंबुलेंस, आपातकाल से निपटने के लिए अलर्ट मोड में देखा गया। शहर के कचहरी चौक पर डीएम धर्मेंद्र कुमार, एसपी डा इनामूल हक मेगनू, डीएफओ सत्यजीत कुमार, प्रशिक्षु वन पदाधिकारी संजीव कुमार, एडीजे उमेश कुमार शर्मा, डीडीसी अरूण कुमार ठाकुर के अलावा पूर्व मंत्री दामोदर रावत, पूर्व विधायक सुमित कुमार ङ्क्षसह, भाजपा जिलाध्यक्ष कन्हैया ङ्क्षसह, जदयू नेता कुमार शांतनु, प्रगति मेहता, इंजीनियर शंभू शरण, पंकज ङ्क्षसह, लोजपा नेता सुभाष पासवान, भाजपा नेता राजकिशोर ङ्क्षसह, राहुल भवेश सहित बड़ी संख्या में जिलास्तरीय अधिकारी, एनडीए के नेता-कार्यकर्ता, स्कूली बच्चे व महिलाएं शामिल थी। जिला प्रशासन के अनुसार उम्मीद से ज्यादा लोगों ने मानव श्रृंखला शिरकत कर इतिहास रच दिया। विपक्ष के साथ-साथ शिक्षक संघ, जीविका कैडर संघ आदि ने इसे फ्लॉप शो कहा।

सहरसा स्टेडियम में स्कूली छात्राओं ने कतारबद्ध होकर एक-दूसरे का हाथ पकड़ा और मानव श्रृंखला बनाई।  मानव श्रृंखला में दिखे जीवन के अलग अलग रंग

जीवंत हुआ लोक संस्कृति, टूट गई हर विभेद की दीवारें

योगनगरी मुंगेर में रविवार को सड़कों पर बदलाव की बयार बह रही थी। बदलाव की बयार में हर विभेद की दीवार ढह गई। जात-पात, अमीर गरीब, महिला -पुरुष, बच्चे -बुजुर्ग सभी एक साथ हाथ में हाथ पकड़े समाज में सकारात्मक बदलाव लाने को संकल्पित नजर आ रहे थे। हाकिम से लेकर बाबू तक सब कतार में थे। मौका था - जल जीवन हरियाली अभियान के समर्थन में और दहेज, बाल विवाह, नशा जैसी सामाजिक बुराईयों को समाप्त करने के लिए आयोजित होने वाले मानव श्रृंखला का। मानव श्रृंखला के दौरान लोक संस्कृति भी जीवंत हो गई। आदिवासी ढोल-ताशा पर कठघोड़वा नृत्य, तो कला जत्था के कलाकारों का अंगिका भोजपुरी भाषा के लोक गीत। सबकुछ लोगों को मानव को उसके जड़ों से जोडऩे की कवायद सरीखा दिख रहा था। विधि व्यवस्था के लिए हमेशा मुस्तैद रहने वाले पुलिस जवान भी कतार में लगे दिखे, तो लोगों की सेहत की ङ्क्षचता करने वाले डॉक्टर और एएनएम भी। लोगों को धर्म अध्यात्म की सीख देने वाली प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की बहनें भी कतार में थी, तो अनुशासन का उदाहरण पेश करने वाले एनसीसी और स्काउट गाडट के कैडेट भी। मानव श्रृंखला में भाग लेने वाले समाजसेवी शिव कुमार रूंगटा ने कहा कि यह मानव श्रृंखला समाज में सकारात्मक बदलाव का वाहक बनेगा। पर्यावरण संरक्षण प्रत्येक नागरिक का दायित्व है। जदयू जिलाध्यक्ष संतोष सहनी, भाजपा जिलाध्यक्ष राजेश जैन ने कहा कि सुबह मौसम का मिजाज बहुत ही खराब था। ऐसा लग रहा था कि मौसम लोगों के उत्साह की परीक्षा ले रहा हो। लेकिन, लोगों की उत्साह के आगे मौसम ने भी हार मान ली। 11 बजते ही हवा की रफ्तार भी मंद हो गई।

 

बांका में 408 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई। इसके लिए नौ लाख 66 हजार लोग एक दूसरे का हाथ थामा। डीएम कुंदन कुमार ने बताया कि इसके लिए 17 रूट तय किए गए थे। साथ ही 24 एंबुलेंस और 21 टैंकर पानी की व्यवस्था की गई थी। मार्गों पर दो बजे तक दंडाधिकारी के साथ पुलिस बल को तैनात किया गया था।

 

बांका में सांसद गिरधारी यादव, मंत्री रामनारायण मंडल, एमएलसी सरोज यादव और जावेद अंसारी ने मानव शृंखला में हिस्सा लिया। यहां 9.66 लाख लोग शामिल हुए। 

बांका में मानव श्रृंखला में राज्य के भूमि सुधार और राजस्व मंत्री रामनारायण शामिल हुए। साथ ही जिलाधिकारी कुंदन कुमार सहित कई प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद थे।

वहीं, मुंगेर के तारापुर में विधायक मेवालाल चौधरी, डीएम, एसपी, जिप अध्यक्ष सहित अन्य गणमान्य ने बढ़चढ़ हिस्सा लिया। 5.7 लाख लोगों की भागीदारी रही। 

इसी तरह जुमई में झाझा विधायक रवींद्र यादव ने हिस्सा लिया। यहां आठ लाख लोग शामिल हुए। 

लखीसराय जिले की कमान श्रम संसाधन मंत्री विजय कुमार सिंहा ने संभाला। जिले में चार लाख के करीब लोगों ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। 

छोटी उम्र के बड़े सपने दे रहे थे बदलाव के संकेत

जल जीवन हरियाली को लेकर आम लोगों को जागरूक करने और समाज से बाल विवाह, दहेज प्रथा, नशा जैसी बुराईयों को समाप्त करने के लिए रविवार को मानव श्रृंखला का आयोजन किया गया। मानव श्रृंखला न सिर्फ सफल रहा, बल्कि समाज में बड़े बदलाव की बुनियाद रखने में कामयाब रही। राज्य सरकार और जिला प्रशासन की ओर से कक्षा पांच से नीचे के बच्चों को मानव श्रृंखला में शामिल नहीं करने की हिदायत दी गई थी। छोटे बच्चों को स्कूल में ही बनने वाली मानव श्रृंखला में शामिल करने के निर्देश दिए गए थे। लेकिन, कई छोटे छोटे बच्चे भी मानव श्रृंखला में हाथ से हाथ पकड़े भविष्य में होने वाले बड़े बदलाव की ओर इशारा कर रहे थे। कई बच्चों ने बताया कि जब भैया लोग (स्कूल के बड़े बच्चे) मानव श्रृंखला में आने लगे, तो हमलोग रोने लगे। तब सर जी (स्कूल के शिक्षक) हमको लेकर आए। लाल दरवाजा की रंजू ने कहा कि मैं नशाबंदी के लिए कतार में लगी हूं। लल्लू पोखर के आदर्श भी कक्षा तीन में ही पढ़ते हैं। मानव श्रृंखला में क्यों खड़े हैं के सवाल पर कहा - जल जीवन हरियाली के लिए। इस बार गर्मी में पानी की बहुत दिक्कत हुई। भीषण गर्मी पड़ी। काफी दिनों तक स्कूल में छुट्टी रही। ठंड में 15 दिनों से अधिक छुट्टी रही। पेड़ पौधा लगाने से स्थिति बदलेगी। अंजलि कुमारी, पवन कुमार आदि के सपने भी बहुत बड़े हैं। कक्षा छह की अंजलि ने कहा - जब तक दहेज समाप्त नहीं होगा, तब तक समाज में बेटियों को लेकर सोच नहीं बदलेगी। बेटियां बोझ ही समझी जाएगी। पास ही खड़ी शिक्षिका नूतन ने अंजलि की हौसला अफजाई करते हुए कहा कि जहां तक नजर जा रही है, वहां तक हाथ में हाथ थामे लोगों के संकल्प से दहेज का दानव निश्चित ही मरेगा। हर्ष राज पटेल ने कहा कि जल और हरियाली नहीं रहेगा, तो जीवन भी नहीं बचेगा। इसलिए हमलोग मानव श्रृंखला में एक दूसरे का हाथ थाम खड़े हैं।

खगडिय़ा जिले में विधायक पूनम देवी यादव, सोनेलाल मेहता, आरएन सिंह, पन्ना लाल सिंह पटेल ने मानव शृंखला में लोगों के साथ हाथ में हाथ मिलाकर खड़े हुए। मानव शृंखला की सफलता के लिए लोगों को जागरूक करते दिखे। 

बेलदौर से महेशखूंट तक दिखी एकजुटता

खगडिय़ा के बेलदौर प्रखंड में साढ़े 24 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई। प्रखंड मुख्यालय बेलदौर से पुरानी जीरोमाइल तक साढ़े नौ किलोमीटर एवं एनएच 107 के उसराहा चौक से माली चौक तक 15 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई। एनएच 107 के उसराहा चौक पर विधायक पन्नालाल ङ्क्षसह पटेल, डीसीएलआर मु. मुस्तकीम, जदयू सहकारिता प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष राजेश कुमार ङ्क्षसह, प्रखंड अध्यक्ष ऋषव कुमार, विजय ङ्क्षसह मानव श्रृंखला में शामिल हुए। जबकि जीरोमाइल चौक के समीप बीडीओ शशिभूषण कुमार, सीओ अमित कुमार, थानाध्यक्ष राजीव कुमार लाल, बीपीएम संतोष कुमार, मुखिया अनिल ङ्क्षसह, कुर्बन मुखिया सुनील शर्मा, सरपंच कुलदीप ङ्क्षसह, न्याय सचिव अभिनव कुमार मानव श्रृंखला में शामिल हुए। संत जोसेफ पब्लिक स्कूल जीरोमाइल के डायरेक्टर राजेश कुमार के नेतृत्व में भी मानव श्रृंखला बनाई गई। बेलदौर बाजार में सेविका संघ के जिलाध्यक्ष प्रेमलता मिश्रा के नेतृत्व में सेविकाओं ने मानव श्रृंखला में भाग लिया। मानव श्रृंखला को सफल बनाने में बेला नौवाद मुखिया गुंजन देवी, हरिशंकर रजक, किशोर ङ्क्षसह, लोजपा प्रखंड अध्यक्ष अशोक मंडल, भाजपा के किरण देवी, मिथिलेश मिठू, जदयू प्रखंड अध्यक्ष गुरुदेव कुमार, पीएचसी प्रभारी डॉ. मुकेश कुमार ने अहम भूमिका निभाई। 

खगड़िया के महेहशखूंट में मानव श्रृंखला को लेकर लोगों में उत्साह था। लगभग 11.15 बजे डीएम अनिरुद्ध कुमार व एसपी मीनू कुमारी महेशखूंट चौक पहुंचे। इस मौके पर एसडीओ सुभाषचंद्र मंडल, एसडीपीओ पीके झा, महेशखूंट थानाध्यक्ष नीरज कुमार ठाकुर, संजीव सिन्हा, नवीन कुमार सिन्हा, राजेश चौरसिया, महेशखूंट मुखिया ममता देवी, पूर्व प्रमुख ओम प्रकाश चौरसिया आदि मौजूद थे। महेशखूंट आसाम रोड चौराहे पर बनाए गए रंगोली की डीएम ने मुक्त कंठ से प्रशंसा की।

 

मानव श्रृंखला में जनप्रतिनिधियों ने लिया बढ़-चढ़कर हिस्सा

खगडिय़ा के गोगरी प्रखंड में 63 किलोमीटर की मानव श्रृंखला बनाई गई। मानव श्रृंखला को लेकर खासा उत्साह रहा। सुबह नौ बजे से ही लोग सड़क पर उतरने लगे। कई लोग इस मौके पर सेल्फी लेते हुए भी दिखे। वे इस यादगार पल को सहेज लेना चाहते थे।इस अवसर पर गोगरी एसएचओ राघवेंद्र कुमार ङ्क्षसह शांति व सुरक्षा को लेकर मौजूद रहे। जबकि बीडीओ अजय कुमार दास, वरीय उप समाहर्ता वसीम अकरम, सामाजिक कार्यकर्ता मंजेश यादव मानव श्रृंखला में शामिल हुए। बौरना पंचायत में मानव श्रृंखला में मुखिया यासमीन व बौरना मुखिया प्रतिनिधि मु. नासिर इकबाल मौजूद थे।

खगडिय़ा के मानसी में श्रृंखला में बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि, सामाजिक कार्यकर्ता शामिल हुए। लोग घरों से निकलकर मानव श्रृंखला में शामिल होकर नया संदेश देने का काम किया। हालांकि मौसम ने मानव श्रृंखला में कहीं-कहीं व्यवधान डाला। मटिहानी ढाला के समीप एनएच 31 पर जनप्रतिनिधि से लेकर सत्ताधारी दल के कार्यकर्ता मानव श्रृंखला का हिस्सा बने।सामाजिक संगठन नशा मुक्त भारत और स्वराज संघ के दर्जनों कार्यकर्ता मानव श्रृंखला में शामिल हुए। प्रमुख संघ के अध्यक्ष सह मानसी प्रमुख बलवीर चांद ने कहा कि मानव श्रृंखला समाज में जागरुकता लाएगी। इस मौके पर सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर कुमार, एमएलसी प्रतिनिधि दीपक कुमार, बीडीओ मु. आबिद हुसैन, पीएचसी प्रभारी डॉ. राजीव रंजन, डॉ. रमण कुमार,प्रमोद कुमार, जदयू के राजनीति प्रसाद ङ्क्षसह, नरेश राम, बीजेपी नेता राजाराम ङ्क्षसह, बिजेन्द्र यादव, मुखिया अरङ्क्षवद यादव, दीपक कुमार विद्यार्थी, स्वराज संघ के संतोष कुमार, शाह आलम, राकेश कुमार, जयकांत ङ्क्षसह, नवलकिशोर शर्मा, मनोज साह, सुजीत कुमार, रवि चौहान, बीरेन्द्र यादव आदि मौजूद थे।

उत्साह के साथ निकाली गई झांकी, बनाई गई रंगोली
खगडिय़ा में मानव श्रृंखला निर्माण के साथ आकर्षक झांकी भी निकाली गई। जिले के गोगरी प्रखंड के मुश्किपुर में उर्दू कन्या मध्य विद्यालय के बच्चे हाथों में पौधे लिए मानव श्रृंखला का निर्माण कर हरियाली की प्रेरणा दी और श्रृंखला निर्माण के बाद पौधारोपण किया। पसरहा में एनएच 31 पर महर्षि मेंही आवासीय शिशु मंदिर के बच्चों ने आकर्षक झांकी निकाली। महेशखूंट चौक पर जीविका व साक्षरता की महिलाओं ने रंगोली बनाई। जिला मुख्यालय में एसबी मेमोरियल के छात्र-छात्राओं ने मानव श्रृंखला में अपनी भागीदारी दी। एसबी मेमोरियल के निदेशक प्रभाकर प्रभात ने कहा कि मानव श्रृंखला से समाज में साकारात्मक संदेश गया है।

पौधे लेकर मानव श्रृंखला में शामिल हुए स्कूली बच्चे

जल जीवन हरियाली को लेकर रविवार को खगडिय़ा जिले में पूर्व निर्धारित 240 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई। मौसम की बेरुखी के बावजूद मानव श्रृंखला निर्माण को लेकर हर किसी में उत्साह दिखा। बारिश की रिमझिम फुहार व ठंड के बीच भी लोग मानव श्रृंखला को लेकर कतारबद्ध दिखे। मौसम की बेरुखी रविवार सुबह से ही रही। मानव श्रृंखला निर्माण को लेकर सुबह दस बजे के आसपास से ही लोग व स्कूली बच्चों की भीड़ सड़कों पर जुटने लगी। महिलाएं भी घर से निकल कर सड़कों पर आ गई। नियत समय 11.30 बजे के पूर्व मुख्य सड़क एनएच 31 सहित सहायक मार्ग एमजी मार्ग, स्टेशन रोड, सन्हौली रोड, कचहरी रोड सहित अन्य सड़क पर खड़े लोग एकजुट हो हाथ से हाथ जोड़कर श्रृंखला का निर्माण आरंभ कर दिया। और जिले में ऐतिहासिक श्रृंखला बन गई। महिलाएं घंटों कतार में खड़ी होकर श्रृंखला निर्माण में भाग लिया।

सात लाख लोगों ने मिलाया हाथ से हाथ, सामाजिक बदलाव का संकल्प

जल जीवन हरियाली को लेकर लोगों को जागरूक करने और बाल विवाह, दहेज प्रथा और नशा जैसी कुरीतियों के मिटाने को लेकर योगनगरी मुंगेर में रविवार को 240 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई। रविवार की सुबह अचानक से मौसम सर्द हो गई। ठंडी पछुआ हवा लोगों का रास्ता रोक रही थी। हवा सीधे लोगों के शरीर में चुभ रही थी। साढ़े नौ बजे थे। पोलो मैदान में हुनर सोसाइटी के छात्र-छात्राएं रंगोनी बना रहे थे। मैदान में सन्नाटा पसरा हुआ था, तो किला परिसर भी विरान। घड़ी ने सुबह दस बजने का इशारा किया। मुंगेर किला परिसर के अंबेडकर चौक की ओर से अचानक अवाज आई, मानव श्रृंखला बनाएंगे, जल हरियाली बचाएंगे। नारों के साथ ही छात्र छात्राओं की लंबी और अनंत श्रृंखला धीरे धीरे पोलो मैदान की ओर बढ़ती दिखाई दी। पोलो मैदान में जिला शिक्षा पदाधिकारी दिनेश चौधरी शिक्षा विभाग के अन्य अधिकारियों के साथ मानव श्रृंखला पर ही चर्चा कर रहे थे। घड़ी ने 10.15 बजने का इशारा किया। तभी अचानक से डीएम राजेश मीणा, एडीएम विद्यानंद ङ्क्षसह, जिला पंचायती राज पदाधिकारी सियाराम ङ्क्षसह सहित अन्य वरीय अधिकारियों का काफिला पोलो मैदान में प्रवेश किया। डीएम ने पोलो मैदान में होने वाले कार्यक्रम की तैयारी के बारे में पूछा। डीएम ने कहा कि पहले हेमजापुर और बाहाचौकी की तरफ (लखीसराय जिला से लगने वाला सीमावर्ती क्षेत्र) ही चलना चाहिए। नहीं, तो फिर वहां पहुंच भी नहीं पाएंगे। मुंगेर में एनएच 80 पर 46 किलोमीटर और राज्यकीय पथ, ग्रामीण पथ पर 194 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाई गई। डीएम एनएच पर लगने वाले मानव श्रृंखला की व्यवस्था देख कर 11 बजे पोलो मैदान लौट आएं। तब तक पोलो मैदान का ²श्य विहंगम हो उठा। बच्चों ने मानव श्रृंखला के जरिये बिहार का नक्शा बनाया। नक्शा के बीच मानव श्रृंखला के जरिये ही मानव वृक्ष और नदी का सुंदर तस्वीर की रचना कर डाली। डीएम राजेश मीणा, एसपी लिपि ङ्क्षसह, एडीएम विद्यानंद ङ्क्षसह, जिला परिषद अध्यक्ष रामचरित्र मंडल, जिला पंचायती राज पदाधिकारी सियाराम ङ्क्षसह, बाल विकास परियोजना पदाधिकारी रेखा कुमारी, सामाजिक सुरक्षा कोषांग की सहायक निदेशक अतुल कुमारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला जन संपर्क पदाधिकारी, मुख्यालय डीएसपी शिवली नोमानी सहित दर्जनों अधिकारियों ने भी हाथ से हाथ मिला कर लोगों के संकल्प के साथ जल जीवन हरियाली अभियान के सफल क्रियान्वयन के जरिये सुंदर मुंगेर-बिहार बनाने का संकल्प लिया। डीएम राजेश मीणा ने कहा कि जिला में 5.7 लाख लोगों को मानव श्रृंखला में शामिल कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। लेकिन, सात लाख से अधिक लोगों ने मानव श्रृंखला में शिरकत की। सात लाख लोग हाथ से हाथ मिला कर एक साथ जल जीवन हरियाली को धरातल पर उतराने के साथ ही दहेज प्रथा, बाल विवाह, नशा जैसी बुराईयों को मिटाने का संकल्प ले रहे थे।

 

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस