भागलपुर। 24 दिसंबर को तेल व्यवसायी मिरजानहाट निवासी राजीव कुमार साह की हत्या मामले में पांच दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं। हालांकि पुलिस ने इस मामले में एक संदिग्ध को हिरासत में लिया है। उससे पूछताछ की जा रही है। वह पहले भी जेल जा चुका है। सीसीटीवी फुटेज में दिखे हुलिये के आधार पर ही उससे पुलिस पूछताछ कर कर रही है, लेकिन उसने कुछ खास जानकारी नहीं दी है। इस घटना में पुलिस इलाकाई बदमाशों की भी भूमिका मान रही है। इसको लेकर लगातार दक्षिणी इलाके में कुछ दागियों के घर पुलिस छापेमारी कर रही है। स्थानीय मदद के बिना इस तरह वारदात को नहीं दे सकते थे अंजाम

पुलिस को आशंका है कि जब तक भाड़े के शूटरों को स्थानीय बदमाशों का सहयोग नहीं मिला होगा, तब तक वे लोग इतने बेखौफ होकर घटना को अंजाम नहीं देंगे। पुलिस ने हाल ही में ही जेल से बाहर निकले कुछ बदमाशों की टोह ली, लेकिन वे लोग फरार हैं। इस कारण इस हत्या में उनके कनेक्शन को लेकर पुलिस का शक गहरा गया है। इसमें बबरगंज, मोगलपुरा आदि के कुछ बदमाशों के नाम हैं। वे लोग पूर्व में कई बार लूट, डकैती, छिनतई, रंगदारी समेत अन्य गंभीर मामलों में जेल जा चुके हैं। मोजाहिदपुर के कुछ बदमाश कुछ दिनों से कई मामले में फरार है। विकास के बदलते बयान ने बढ़ा दी है पुलिस की परेशानी

व्यवसायी की हत्या के समय मौजूद प्रत्यक्षदर्शी काजीचक निवासी विकास कुमार उर्फ विक्की के बदलते बयान के कारण पुलिस की जांच उलझ गई है। उसने अब तक यह नहीं बताया है कि वह राजीव को काजीचक वाली गली में लेकर गया ही क्यों था। विकास ने कहा कि वह उसके बीमार पिता को देखने जा रहे थे, लेकिन विकास की मां ने ऐसी बात से इन्कार किया है। भाई को बिना बताए राजीव को लेकर निकल गया विकास

मोजाहिदपुर पुलिस लगातार इलाके में लगे सीसीटीवी को खंगालने में जुटी हुई है। पेट्रोल पंप पर लगे कैमरे में घटना से कुछ देर पहले राजीव, उसके भाई राजेश और विकास की गतिविधि कैद है। जिसमें स्पष्ट है कि विकास ने तेल लेने के बाद राजेश से कोई बात नहीं की और वह राजीव को लेकर निकल गया। उसके निकलने के दो मिनट बाद राजीव के भाई अपनी बाइक से तेल लेकर निकले। वे घर की तरफ गुड़हट्टा रोड से सीधा निकल गए, जबकि विकास ने बाइक काजीचक की तरफ बाइक मोड़ ली।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस