लखीसराय [मृत्युंजय मिश्रा]। New government in Bihar: बिहार की नव मनोनीत उप मुख्यमंत्री रेणु देवी का लखीसराय से गहरा लगाव रहा है। उनका बचपन शहर स्थित प्रसिद्ध नारी शिक्षण संस्थान बालिका विद्यापीठ जैसे गुरुकुल में बीता था। 70 के दशक में रेणु देवी बालिका विद्यापीठ के छात्रावास में रहकर माध्यमिक शिक्षा पूरी की थी और मैट्रिक पास करने के बाद आगे की शिक्षा के लिए दूसरे शहर गईं। पश्चिम चंपारण की बेतिया से विधायक निर्वाचित भाजपा की वरिष्ठतम नेता रेणु देवी वर्तमान में भी बालिका विद्यापीठ को संचालित करने वाली ट्रस्ट की सम्मानित सदस्य हैं। रेणु देवी के उप मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही बालिका विद्यापीठ में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। अवकाश के बावजूद इस खुशी में विद्यालय परिसर को दीपों से जग-मग किया गया। पूर्व मानद सचिव डॉ. कुमार शरदचंद की वीरांगना उषा शर्मा उन दिनों को याद करके कल्पना में खो जाती हैं। उन्होंने बताया कि रेणु में उस दौरान में गजब की नेतृत्व क्षमता थी। अध्ययन काल के बाद भी वह बराबर इस विद्यालय के आंगन की शोभा बढ़ाने आती रही हैं। पूर्व में वह युवा, कला एवं संस्कृति मंत्री रहते भी वह अपने गुरुकुल में आने से अपने कदम को रोक न सकी थीं। वर्ष 2000 के बाद से रेणु देवी बालिका विद्यापीठ ट्रस्ट मंडल में शामिल हैं। बालिका विद्यापीठ की मंत्री सुगंधा शर्मा ने नवगठित बिहार सरकार की उप मुख्यमंत्री रेणु देवी को बधाई है। कहा कि रेणु दीदी ने बालिका विद्यापीठ छात्रावास में रहकर बतौर छात्रा अध्यापन का कार्य पूरा की है। यह वर्तमान में गौरव की बात है। वे अब भी ट्रस्ट की एक वरिष्ठ सदस्य हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि भविष्य में भी बालिका विद्यापीठ को उनका संरक्षण मिलता रहेगा। ट्रस्ट के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी आलोक राज, प्राचार्य शैलेंद्र कुमार ङ्क्षसह ने भी उप मुख्यमंत्री रेणु देवी को बधाई दी है। कोरोना काल के बाद अध्ययन-अध्यापन कार्य शुरु होने पर उप मुख्यमंत्री रेणु देवी का सम्मान समारोह बालिका विद्यापीठ में किए जाने की तैयारी अभी से ही शुरू कर दी गई है। जानकारी हो कि गोवा की पूर्व राज्यपाल मृदुला सिन्हा बालिका विद्यापीठ ट्रस्ट की अध्यक्ष हैं। रेणु देवी के उपमुख्यमंत्री बनने के बाद बालिका विद्यापीठ में नारी शिक्षा को बढ़ावा मिलने की उम्मीद बढ़ गई है।  

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप