जागरण संवाददाता, भागलपुर। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय (टीएमबीयू) में अतिथि शिक्षक नियुक्ति के लिए पांच सौ से ज्यादा आवेदन आए हैं। अभी आवेदन आने का सिलसिला जारी है। आवेदन करने की तिथि पूर्व में ही 15 नवंबर तक विस्तारित कर दी गई है। इसके लिए कुलपति प्रो. हनुमान प्रसाद पांडेय के निर्देश पर कुलसचिव डा. निरंजन प्रसाद यादव ने अधिसूचना भी जारी की थी। अतिथि शिक्षकों के लिए डेढ़ सौ से ज्यादा पदों पर रिक्तियां निकली हैं।

दरअसल, दशहरे के अवकाश के कारण आवेदन लेना बंद था। बुधवार से विवि में अवकाश खत्म हो रहा है, इस कारण फिर से आवेदन स्वीकार किए जाएंगे। कुलसचिव ने बताया कि अतिथि शिक्षक नियुक्ति को लेकर लगातार आवेदन आ रहे हैंं।तय तिथि तक आवेदन लेने के पश्चात उच्चाधिकारियों के निर्देश पर आगे स्क्रूटनी समेत अन्य नियुक्ति की प्रक्रिया अपनाई जाएगी। दशहरे के अवकाश के पूर्व रिक्त में संशोधन करते हुए उन विषयों में रिक्त जारी की गई है, जिसमें शिक्षकों की कमी थी और उसके लिए सीट जारी नहीं हुई थी।

आज से खुलेगा विवि, पटरी पर लौटेगा कामकाज

टीएमबीयू में दशहरे का अवकाश खत्म हो गया है। बुधवार से विवि और उसके सभी कालेज व इकाई खुल जाएंगे। इसके बाद से सारा कामकाज पटरी पर लौटेगा। विवि में स्नातक में आनस्पाट के तहत नामांकन लेने वाले विद्यार्थी बुधवार से कालेजों में आवेदन कर सकते हैं। 25 अक्टूबर तक उनका नामांकन आवेदन आनस्पाट के प्रक्रिया के तहत स्वीकार किया जाएगा। हालांकि इसके लिए जल्द ही नामांकन समिति की बैठक आयोजित होगी, जिसमें तिथि तय कर उसे विद्यार्थियों के लिए जारी किया जाएगा।

पुस्तक इन्नर बारहबाना और प्रभाती का हुआ विमोचन

नवगछिया में विभूति भूषण झा द्वारा सम्पादित हिन्दी साहित्य की पुस्तकों इन्नर, बारहबाना और प्रभाती का एक सादे समारोह में महिलाओं ने विमोचन किया। ज्ञात हो कि संपादक स्वयं के खर्च पर नये और स्थापित रचनाकारों की रचनाओं को समाहित कर पुस्तक निकालते हैं। यह कार्यक्रम सिर्फ महिलाओं के द्वारा होने के कारण अनूठा था। मौके पर सम्पादक विभूति बी झा ने कहा कि यह कार्य माताजी के कहने पर पुस्तक अवली से प्रारम्भ होकर यहां तक पहुंचा है। अभी तीन पुस्तकें पल पल दिल के पास, कथरी और चदरिया झीनी रे झीनी आने को हैं। कार्यक्रम में बेली झा, माधुरी झा, मधुमती ठाकुर, रूपम कुमारी, संगीता कुमारी, तरुण कुमार, ममता झा, अमरनाथ झा, कुमार गौरव, गौतम और अन्य लोग उपस्थित थे।

Edited By: Dilip Kumar Shukla