जागरण संवाददाता, बांका/भागलपुर। बांका के एक मस्जिद के पास आज सुबह भयंकर बम विस्‍फोट हुआ है। इस घटना में मदरसा पूरी तरह ध्‍वस्‍त हो गया है। आधे दर्जन लोगों के जख्‍मी होने की सूचना है। बताया जा रहा है कि बम विस्‍फोट में इमाम की मौत हो गई है। पुलिस ने शव को बरामद कर लिया। घटना के सभी जख्‍मी को एक को गुप्‍त स्‍थान पर ले जाकर इलाज कराया जा रहा था। इसी दौरान मौलवी की मौत हो गई।

जानकारी के अनुसार रैनिया जोगडीहा पंचायत के चांदन नदी से सटे नवटोलिया स्थित नूरी मस्जिद इस्लामपुर परिसर के पास बम विस्‍फोट हुआ। विस्‍फोट इतना भयानक था कि मदरसा पूरी तरह ध्‍वस्‍त हो गया। मंगलवार की सुबह बम विस्फोट होने से आस पास का इलाका थर्रा उठा। घटना में मदरसे का आधा भाग मलवे में तब्दील हो गया। घटना में मौलाना मु अब्दुल सत्तार मोमिन, मदरसे के मौलवी मु मोमिद सहित चार से पांच लोगों के जख्मी हो गए। सभी जख्मी ऑटो पर सवार होकर किसी गुप्त स्थान पर इलाज के बाद झारखंड चले गए। बाद में मौलाना मु अब्दुल सत्तार मोमिन की मौत हो गई। घटना के बाद स्थानीय घरों के पुरुष सदस्य भी भाग गए, जबकि महिलाएं कुछ भी बोलने से इन्कार कर रहीं हैं। मौलवी झारखंड राज्य के गोड्डा का निवासी बताया जा रहा है।

बम इतना शक्तिशाली था कि मलवे का कई भाग सड़क के दूसरे किनारे जा गिरा। कोरोना काल के कारण मदरसा बंद था। उसमें एक भी बच्चे नहीं थे, नहीं तो बड़ी घटना होने से इन्कार नहीं किया जा सकता है। इधर, एसडीपीओ डीसी श्रीवास्तव, अभियान एएसपी अयोध्या सिंह, थानाध्यक्ष शंभू यादव सहित अन्य पुलिस बलों ने घटना के बारे में पूछताछ की, लेकिन स्थानीय लोगों ने कुछ भी बताने से परहेज किया। दोपहर बाद भागलपुर से एफएसएल एवं डॉग स्क्वायड की टीम घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की जांच की। कुछ नमूने एकत्र किए। टीम ने बताया कि बम बहुत शक्तिशाली था। किस कारण से बम विस्फोट हुआ है। इसका पता किया जा रहा है। चर्चा है कि मदरसा अंदर से बंद था। इसी क्रम में जोरदार की आवाज हुई। शुरू में गैस सिलेंडर विस्फोट की अफवाह उड़ी। लेकिन बारुद के गंध व धुआं से बम विस्फोट की बात सामने आयी।

जानकारी मिली कि अंदर दर्जनों की संख्या में बम रखे थे। इस क्रम में गर्मी के कारण विस्फोट हो गया। जबकि कुछ लोगों का कहना है कि बम बनाने के क्रम में विस्फोट हुआ होगा। वैसे, एफएसएल की टीम वैज्ञानिक तरीके से जांच कर रही है। जांच के बाद सही कारणों का पता चल सकता है।

मजलिशपुर से अदावत के कारण बम व हथियार रखने की चर्चा

नवटोलिया व मजलिशपुर के बीच कई बार खूनी संघर्ष की घटना घटी है। इस कारण नवटोलिया के लोगों द्वारा मदरसे में बम व हथियार रखने की चर्चा है। वैसे, पुलिस के समक्ष मलवे को जेसीबी से हटाया जा रहा है। अभी तक कोई हथियार नहीं मिले हैं।

डीआइजी सुजीत कुमार के निर्देश पर बांका एसपी घटनास्थल पर पहुंच जांच में जुट गए हैं। फोरेंसिक जांच दल भी वहां भेजा गया है, ताकि विस्फोट के कारणों और विस्फोटक के प्रकार का पता लगाया जा सके। डीआइजी ने बताया कि विस्फोट में घायल किसी भी व्यक्ति का अभी पता नहीं चल पाया है। एसपी को घायलों का पता लगाने का भी निर्देश दिया गया है।

मस्जिद के आगे बने मरदसे में बम विस्फोट मामले की जांच वैज्ञानिक तरीके से की जा रही है। इसमें दो जख्मी की सूचना मिली है। पुलिस इसकी जांच कर रही है। साथ ही मौलवी के चरित्र की जांच की जा रही है। विस्फोट किस उद्देश्य से की गयी है। पुलिस इस दिशा में भी जांच कर रही है। - अरविंद कुमार गुप्ता, एसपी, बांका

मजलिसपुर के अपराधियों से मुकाबले के लिए मदरसे में छिपा रखा था नवटोलिया के बदमाशों ने बम

बांका के रैनिया-जोगडीहा पंचायत के नवटोलिया मस्जिद के सामने बने मदरसा में हुए बम धमाका में दो गावों के अपराधियों के बीच चल रहे गैंगवार का नतीजा माना जा रहा है। ऐसी चर्चा है नवटोलिया गांव के सक्रिय अपराधी गिरोह के बदमाशों ने मजलिसपुर के बदमाशों से मुकाबले के लिए बम तैयार कर मदरसे में छिपा रखा था। मदरसा कोरोना काल में खाली था, जिसका फायदा बदमाशों ने उठाते हुए वहां बम तैयार कर छिपा रखा था। पास के मजलिसपुर गांव के बदमाशों से नवटोलिया गांव के बदमाशों से हिंसक झड़प होती रही है। हाल में मजलिसपुर गांव के पुल्लु यादव उर्फ बुल्ला यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या में नवटोलिया गांव के बदमाशों को नामजद किया गया है। पुल्लु कि हत्या काढ़ा बांध के समीप गोली मार कर दी गई थी। कहा जा रहा है उस घटना के बाद से ही मजलिसपुर गांव में सक्रिय बदमाश नवटोलिया, चमरैली आदि इलाके में घात लगाए रहते हैं। बताया जा रहा है मजलिसपुर के बदमाशों के रुख को देखते हुए नवटोलिया के बदमाशों ने भी तैयारी कर रखी थी।

 

Edited By: Dilip Kumar Shukla