जागरण संवाददाता, लखीसराय। लखीसराय में अग्निपथ स्कीम के विरोध में 17 जून को विक्रमशिला एवं जनसेवा एक्सप्रेस को आग लगाकर राख करने में नक्सलियों के भी हाथ थे। तेलंगाना इंटेलिजेंस ब्यूरो से मिले इनपुट के आधार पर लखीसराय में गिरफ्तार नक्सली मनश्याम दास ने यह खुलासा किया है। उक्त नक्सली बांका जिले के अमरपुर थाना क्षेत्र के चरैया गांव का रहने वाला है जो देश के शीर्ष नक्सली नेताओं के लिए कुरियर का काम करता रहा है। इसकी गिरफ्तारी और पूछताछ से खुलासा हुआ है कि वाम दल के एक छात्र नेता को आगे करके नक्सलियों ने ट्रेन को आग के हवाले किया।

छात्र नेता ने वाट््सएप ग्रुप के माध्यम से आगजनी के लिए असामाजिक तत्वों को उकसाया था और खुद भी शामिल था। वामदल के छात्र नेता का सीधा नक्सली कनेक्शन भी सामने आया है। साथ ही शहर के छह सफेदपोश की भी संत-गांठ पुलिस की पूछताछ में सामने आई है। इधर तिलकामांझी भागलपुर विवि के एक प्राध्यापक विलक्षण रविदास का भी नक्सली कनेक्शन सामने आया है। विलक्षण रविदास के खिलाफ तातारपुर थाने में पूर्व से भी दो केस दर्ज है। गिरफ्तार नक्सली के पास से तीन चार चि_ियां मिली है जिसमें विलक्षण रविदास के नाम से लिखी चि_ी भी पुलिस को हाथ लगी है। एसपी पंकज कुमार का कहना है कि संभवत: प्राध्यापक छात्रों को नक्सली मूवमेंट में शामिल करते हैं। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार नक्सली से पूछताछ में मिली जानकारी के तथ्यों की जांच की जा रही है।

Edited By: Dilip Kumar Shukla