भागलपुर। टीबी मरीजों की चिंता जिला यक्ष्मा विभाग को नहीं है। चार माह पूर्व बलगम जांच के लिए लाखों रुपये की मशीन जिला यक्ष्मा केंद्र को दी गई। फिर भी आधी-अधूरी व्यवस्था के बीच मशीन का उद्घाटन कर दिया गया। उद्घाटन के तीन दिन बाद भी एक भी मरीज के बलगम की जांच नहीं की गई।

सीबी नट मशीन का उद्घाटन 24 मार्च को विश्व टीबी दिवस के अवसर पर किया गया। चूंकि जिला यक्ष्मा केंद्र में भी मरीजों के बलगम की जांच हो इसलिए उक्त मशीन जिला यक्ष्मा केंद्र में दी गई थी। ताकि मरीजों को जांच के लिए जेएलएनएमसीएच रेफर नहीं करना पड़े। उक्त मशीन द्वारा बलगम की जांच रिपोर्ट थोड़ी देर में ही मिल जाती है। रिपोर्ट से यह जानकारी मिलती है कि मरीज को टीबी है या नहीं।

बुधवार को जिला यक्ष्मा केंद्र के सीबी नट मशीन का कमरा बंद था और ताला लगा हुआ था। बताया गया कि मशीन को अर्थिग से नहीं जोड़ा गया है, जोड़ने का कार्य किया जा रहा है। यक्ष्मा केंद्र में एक-दो कर्मचारी उपस्थित थे। लेकिन एक भी मरीज को वहां नहीं मिला। संचारी रोग पदाधिकारी डॉ. अंजनी कुमार ने बताया कि दो-तीन दिनों बाद बलगम की जांच प्रारंभ कर दी जाएगी। अभी मशीन को अर्थिग से जोड़ने का काम किया जा रहा है। ताकि मशीन खराब नहीं हो।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021