संवाद सूत्र, शंभूगंज (बांका)। बांका जिले के शंभूगंज प्रखंड के दाढ़ी-पकरीया गांव के युवक गुंजन शर्मा ने इंडियाज गाट टैलेंट-9 के मंच पर परचम लहराकर बिहार का नाम पूरे देश में रौशन किया है। गुंजन ने 80 फीट के सिंगल स्टैंड पर एक से बढ़कर एक खतरनाक करतब दिखाए। ह्यूमेन फ्लैग करते हुए पाइप का एक चक्‍कर लगाया। 

जज फिल्म अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी, गीतकार मनोज मुंतशिर व गायक बादशाह ने उनके कला की खूब सराहना की। सभी जज उनके करतब को देखकर दंग रह गए। होस्‍ट कर रहे अर्जुन बिज्लानी ने गुंजन के कर‍तब की काफी प्रशंसा की। इस कार्यक्रम में किरण खेर भी जज हैं, लेकिन वे इस दिन कार्यक्रम में नहीं आ पाई थीं। 

गीतकार मनोज मुंतशिर ने यहां तक कहा कि यह एक अद्भुत प्रदर्शन से कम नहीं था। ऐसी कला पहले उन्‍होंने कभी नहीं देखी थी। उन्‍होंने कहा कि भारत में प्रतिभावान लोगों की कमी नहीं है।

 

शुरू से ही जिमनास्टिक एवं कराटे में रही रूचि

गुंजन शर्मा की प्रारंभिक शिक्षा गांव में प्राथमिक विद्यालय कदराचक, शंभूगंज से शुरू हुई। बाद में गुंजन अपनी बड़ी बहन अनिता शर्मा के यहां शिरोमनी टोला नयागांव (थाना-परबत्‍ता, जिला-खगडि़या) चले गए। जहां से उन्‍होंने छठी से दसवीं तक पढ़ाई की। श्रीकृष्ण उच्च विद्यालय नयागांव से 1998 में गुंजन ने मैट्रिक परीक्षा पास की। वर्ष 2000 में इंटर की परीक्षा सबौर कालेज, भागलपुर से उन्‍होंने उत्‍तीर्ण की। उनके बड़े भाई का नाम विनय शर्मा और मुंजय शर्मा है।

गुंजन का रूझान शुरू से ही कराटे और जिमनास्टिक की तरफ रहा है। वर्ष 2000 में गुंजन ने मारवाड़ी व्‍यायामशाला भागलपुर से उन्‍होंने योग, कराटे और जिमनास्टिक का प्रशिक्षण लिया। घर की माली हालत ठीक नहीं रहने के कारण वे बड़े भाई विनय शर्मा के पास दो माह के लिए लधुनिया चले गए। इसके बाद चंडीगढ़ आए। जहां उन्‍होंने कंप्‍यूटर का प्रशिक्षण लिया। 

कम्प्यूटर का प्रशिक्षण लेने के बाद गुंजन दिल्‍ली चले गए। 2003 में दिल्ली वहां उन्‍होंने ट्यूशन पढ़ाना शुरू किया। साथ ही योग,  कराटे, ताइक्वांडो का प्रशि‍क्षण लिया। Parkour, Calisthenics में उन्‍होंने वहां दक्षता हासिल की। 2009 में गुंजन के साथ ही उनके छोटे भाई चंदन शर्मा  भी फीटनेस कोर्स, कराटे आदि का प्रशिक्षण लिया।

गुंजन ने 2008 में मार्शल आर्ट सहित अन्‍य विधाओं का प्रशिक्षण लोगों देना शुरू कर दिया। वर्ष 2009 में स्टंट का उच्चतम कोर्स पारकोर और Calisthenics का भी उन्‍होंने ट्रेनिंग दिया। उन्‍होंने कहा कि उनका उद्देश्‍य है कि सभी को   फीटनेस के प्रति जागरूक करना है। इसके लिए वे टिप्‍स देते हैं। लोगों को प्रशिक्षित भी करते हैं। अब तक उन्‍होंने 30 लोगों को फीटनेस कोच बनाया है, जो अलग-अलग जगहों पर अन्‍य लोगों को प्रशिक्ष‍ित कर रहे हैं। 

मणि शर्मा के आठ संतानों में गुंजन सातवें नंबर पर है। मणि शर्मा खुद किसान हैं और मां सुनैना देवी गृहिणी हैं। उनके सभी भाई फिटनेस कोच है। साथ ही उनकी दो भाभी, भतीजी, भांजा, भांजी भी इसी विधा से जुड़े हुए है।  

गुंजन 2011 में पहली बार वर्कशाप के लिए आइआइटी मुंबई गए। 2012 में सलमान खान, अक्षय कुमार, शाखरूख खान एवं सुशांत सिंह राजपूत के साथ भी उन्‍होंने स्टंट का छोटा रोल किया था। इसके बाद गुंजन ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। सिनेमा और विज्ञापन में भी उन्‍होंने कई भूमिकाएं निभाई। 

गुंजन ने इंडियाज गाट टैलेंट मंच पर बेहतरीन प्रदर्शन कर सफलता हासिल की। गुंजन की इस उपलब्धि पर उनके गांव में जश्‍न का महौल है। ग्रामीण भी काफी खुश हैं। गुंजन ने बताया कि ईमानदारी से किया गया परिश्रम कभी व्यर्थ नहीं जाता है। मनुष्य को कभी भी कठिन परिस्थियों में धैर्य नहीं खोना चाहिए।

यह भी पढ़ें - आकाश के हुनर के कायल हुए बालीवुड के दिग्गज, करण जौहर ने कहा इससे बेहतर परफॉर्मेंस नहीं देखा, भावुक हुईं परिणीति चोपड़ा

यह भी पढ़ें - जानें कौन हैं भागलपुर के हुनरबाज आकाश, जिनकी परफार्मेंस देख फूट-फूट पर रो पड़ी परिणीति चोपड़ा

Edited By: Dilip Kumar Shukla