भागलपुर [जेएनएन]। प्रेम विवाह करना एक युवती को उसम समय महंगा लगने लगा, जिस समय उसके पति ने उसे तीन ​तलाक दे दिया। प्रेम प्रसंग के दौरान दोनों ने एक साथ जीने और मरने की कसमें खाई थी। सातों जन्म साथ रहने का वादा किया था। लेकिन शादी होते ही पति बनने के साथ ही वह पत्नी को प्रताड़ित करने लगा। पत्नी से अक्सर अपने मायके से दहेज लाने को कहने लगा। पति ​की मांग को पूरी नहीं कर पाने के कारण पत्नी को पति ने तीन तलाक दे दिया।

नाथनगर इलाके में तीन तलाक देने का मामला प्रकाश में आया है। दो लाख की मेहर नहीं मिलने पर पति ने पत्नी के साथ मारपीट करते हुए तीन तलाक दे दिया। इस मामले में पत्नी ने नाथनगर थाने में पति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

पीडि़ता बीबी साबिहा ने पुलिस को आवेदन देकर बताया कि उसने ढाई साल पहले चंपानगर निवासी मुहम्मद अकरम से प्रेम विवाह किया था। शादी के कुछ दिन बाद से ही लगातार अकरम मुझसे मायके से दहेज के रूप में दो लाख रुपये लाने को कह रहा था। इन्कार करने पर कमरे में बंद कर पिटाई करता था।

बीते बुधवार की सुबह पति ने फिर रुपये की मांग की। विरोध किया तो पीटने लगे। पति की पिटाई से बचने के लिए जब ससुर और सास के पास गई तो उन दोनों ने मुझे बचाने के बदले अकरम को कहा कि या तो जान से मार दो या तलाक दे दो।

इतना सुनते ही पति ने मुझे पकड़ लिया और मेरे सिर को दीवार पर टकराने लगा। तीन बार उसने में तलाक कह घर से निकाल दिया। बाद में उसने घटना की जानकारी अपने स्वजन को दी। सरदारपुर निवासी पीडि़ता के पिता ने कहा कि ससुराल वाले शादी के बाद से ही उनकी बेटी को प्रताडि़त करते थे। इस संबंध में नाथनगर इंस्पेक्टर मु. सज्जाद हुसैन ने बताया कि पीडि़ता के बयान पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस