भागलपुर। हर ओर कूड़े-कचरे का ढेर और दुर्गध से परेशान शहर के लोगों ने इसके लिए प्रशासन को जिम्मेवार ठहराते हुए कहा कि अगर इस समस्या के समाधान की शीघ्र पहल नहीं हुई तो सांस लेना दूभर हो जाएगा। परिचर्चा के दौरान यह तय हुआ कि कचरा डंपिंग के लिए चार ग्राउंड बनाए जाने का प्रस्ताव अगली बैठक में पुन: पारित किया जाएगा।

दैनिक जागरण ने शहर की एक बड़ी समस्या की ओर लोगों का ध्यान अपने अभियान कचरे का कहर, हवा में जहर के माध्यम से आकृष्ट किया था। शुक्रवार को दैनिक जागरण कार्यालय में शहर की मेयर सीमा साहा, डिप्टी मेयर राजेश वर्मा समेत कई पार्षद, डॉक्टर, सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इस मुद्दे पर चर्चा की।

अहम सवाल यह था कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों का कितना पालन हो रहा है। कचरा डंपिंग ग्राउंड में न तो चारदीवारी बन सकी है और न ही वहां तक पहुंचने के लिए सड़क। नगर निगम के अधिकारी आखिर क्या कर रहे हैं? स्मार्ट सिटी की कौन सी योजना पर काम हो रहा है? कूड़ा निस्तारण के लिए नगर निगम के बोर्ड की बैठक में प्रस्ताव पारित किए जाने के बाद भी इस पर अमल क्यों नहीं किया जा रहा है? निगम में काम हो रहा है तो फिर शहर में हर तरफ कूड़ा ही कूड़ा क्यों?

मेयर ने कहा कि यह चिंता वाजिब है। जो सवाल उठाए गए हैं, वे सही हैं। अधिकारियों से बार-बार कहे जाने के बाद भी इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। योजनाओं का कार्यान्वयन टल रहा है। डिप्टी मेयर ने कहा कि प्रशासन को समन्वय स्थापित कर कार्य करना चाहिए, लेकिन उन्हें यह कहने में कोई गुरेज नहीं कि ऐसा नहीं हो रहा है।

सिर्फ कनकैथी डंपिंग ग्राउंड से कूड़ा निस्तारण की समस्या का समाधान नहीं हो सकेगा। इसके लिए निगम को चार जोन में बांटे जाने की जरूरत है। कनकैथी के साथ ही नाथनगर, सबौर और अलीगंज में प्वाइंट बनाया जाएगा। शहर के सभी घर में दो लाख कूड़ेदान दिए जाएंगे। डंपिंग ग्राउंड का प्रस्ताव पहले भी दिया जा चुका है। तो फिर इसमें देरी क्यों? उन्होंने कहा कि वे लोग बोर्ड की बैठक में यह प्रस्ताव फिर पारित करेंगे।

साथ ही गीले कचरे से जैविक खाद बनाने की योजना है। स्मार्ट सिटी की योजना से प्रोसेंसिंग यूनिट की व्यवस्था होगी। साथ ही जहां भी कूड़ा गिरा है, उसे मिंट्टी से भरा जाएगा। कूड़ा उठाव के लिए निजी एजेंसी की मदद की योजना बनाई गई है। इसे शीघ्र ही धरातल पर उतारा जाएगा।

शहर के प्रबुद्ध लोगों ने कहा कि यह हमारा संकल्प हो कि स्वच्छता ही भागलपुर का विकल्प है। लोग भी इसका ध्यान रखें कि कूड़े को खुले में न डाला जाए। शहर साफ-सुथरा और स्वच्छ हो, इसके लिए सतत प्रयास जरूरी हैं। यह सामूहिक जिम्मेदारी से ही संभव हो सकता है। इसके लिए सदैव जागरूक रहना होगा। शहर हमारा है इसे घर की ही तरह साफ-सुथरा बनाए रखना है, इसी भाव के साथ निरंतर कार्य करना होगा। शहर को स्वच्छ और सुंदर बनाने के लिए नगर निगम प्रशासन को भी और अधिक संवेदनशीलता के साथ कार्य करना होगा। मुख्य बाजारों, सड़कों, गली-मोहल्लों, पार्को, सार्वजनिक स्थानों, कार्यालयों आदि में गंदगी न रहे, इसके लिए सभी को जागरूक रहना होगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप