भागलपुर [जेएनएन]। डिब्रूगढ़ से दिल्ली जा रही ब्रह्मपुत्र मेल से कटकर मंगलवार की सुबह बाढ़ पीड़ित मां-बेटे की मौत हो गई। अकबरनगर-सुल्तानगंज के बीच सुबह आठ बजे की घटना की है। घटना के विरोध आक्रोशित बाढ़ पीड़ित सड़क पर उतर आए और सड़क जाम कर दिया। जाम के कारण मुख्य मार्ग पर वाहनों का परिचालन पूरी तरह से ठप हो गया।

दरअसल, गंगापुर के पास रेलवे ट्रैक किनारे बाढ़ पीड़ित रह रहे थे। सुबह अप ब्रह्मपुत्र मेल भागलपुर से 7.50 में खुली इस ट्रेन का ठहराव सीधा सुल्तानगंज है। इस कारण ट्रेन रफ्तार में थी। जैसे ही गंगापुर ट्रैक के पास महिला और बच्चे को देखा तो ट्रेन चालक लगातार हॉर्न बजाता रहा।

इस बीच ट्रेन दोनों को रौंदते हुए आगे निकल गई। जिसमें दोनों की मौत मौके पर हो गई। सूचना मिलते ही रेल पुलिस पहुंची।

जानकारी के अनुसार अकबरनगर थाना क्षेत्र के गंगापुर में रेलवे पटरी के किनारे तिरपाल लगाकर रह रहे इंगलिश चिचरोन के बाढ़ पीड़ि‍त मां और बेटे की ट्रेन के चपेट में आने से कटने मौत हो गयी। ब्रह्मपुत्र मेल सुपरफास्ट एक्सप्रेस भागलपुर से दिल्ली की ओर जा रही थी।  इसी दौरान गंगापुर गांव की समीप ट्रैक पार करने के दौरान मां बेटे की कटकर मौत हो गई। इस घटना के बाद गुस्साये परिजन ने दधिचीनगर गांव के समीप अकबरनगर सुल्तानगंज मुख्य मार्ग को जाम कर दिया है। मृतक के परिजन सरकार से मुआवजे की मांग करते हुए नारेबाजी करने लगी।

यहां बता दें कि अकबरनगर पंचायत के गंगापुर गांव के समीप इंग्लिश चिचरोन गांव के वार्ड दस निवासी बाढ़ पीड़ित सिंघो दास की 38 वर्षीय पत्नी अंजो देवी परिवार के साथ रेल पटरी किनारे कई दिनों से रह रही थी। मंगलवार की सुबह आठ बजे महिला अंजो देवी का सात वर्षीय पुत्र दिलखुश कुमार पटरी पर खेल रहा था। अचानक उनकी मां की नजर पड़ी कि ट्रेन उसी पटरी पर आ रही थी। बेटे को बचाने जैसे की अंजो देवी पटरी पर गई, दोनों ट्रेन की चपेट में आ गया। इस हादसे के बाद आसपास के ग्रामीणों की भीड़ घटनास्थल पर लग गयी। ज्ञात हो कि जिले में बाढ़ पीड़ितों के लिये सरकार या प्रशासन की ओर से रहने और भोजन की व्यवस्था नहीं किए जाने के कारण लोग इधर—उधर रह रहे हैं।

आक्रोशित लोग और मृतक के परिजनों ने शव को लेकर इंगलिश चिचरोन के दधिचीनगर गांव के पास सुल्तानगंज—अकबरनगर मुख्य मार्ग एनएच 80 को जाम कर दिया। लोग की मांग कर रहे थे।

सूचना मिलते ही अकबनगर थाना प्रभारी संतोष शार्मा मौके पर पहुंचकर लोगों को समझाने का प्रयत्न किया। लेकिन ग्रामीण एक भी सुनने को तैयार नहीं थे। इसके बाद सुल्तानगंज सीओ शशिकांत कुमार और जाप नेता डॉ चक्रपाणी हिमांशु मौके पर पहुंचकर लोगों को समझाया। सीओ शशिकांत कुमार ने पीड़ितों को प्रावधान के मुताबिक मुआवजा देने की घोषणा की। लगभग डेढ़ घंटे के बाद लोगों ने जाम हटाया। जाम के कारण अकबरनगर—सुल्तानगंज एवं अकबरनगर—भागलपुर मुख्य मार्ग पर वाहनों की लम्बी कतारे लग गयी।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस