भागलपुर। मुंदीचक में मंगलवार को 314 बोतल कफ सीरप के साथ पुलिस ने विकास शर्मा को गिरफ्तार किया है। उसने अपने घर में तीन कार्टन में कफ सीरप जमा करके रखा था। वह पिछले दो वर्षो से नशे करने वाले लोगों को कफ सीरप बेचता था। कफ सीरप बेचे जाने की सूचना एसएसपी आशीष भारती को मिली। उन्होंने तिलकामांझी चौकी इंचार्ज मिथिलेश कुमार और जोगसर इंचार्ज विश्वबंधु कुमार को दल बल के साथ भेजा। पुलिस के देखते ही विकास ने भागने का प्रयास किया। लेकिन उसे खदेड़कर पकड़ा गया।

विकास की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने ड्रग इंस्पेक्टर दयानंद प्रसाद को इसकी सूचना दी। वे सूचना पाकर तिलकामांझी पुलिस चौकी पहुंचे। उन्होंने अपने बयान पर विकास पर केस दर्ज कराया है। इस दौरान जितेंद्र कुमार भी मौजूद थे। नौ जनवरी 2018 को विकास का घर ढह गया था। जिसमें उसकी भाभी की मौत हो गई थी। विकास ने बताया कि वह कफ सीरप सराय से लाता था। डेढ़ सौ रुपये तक में बेचता था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस