मुंगेर, जेएनएन। पटना के एनएनएमसीएच में भर्ती जमालपुर की छह माह की मासूम बच्ची ने कोरोना को मात दे दी। 11 दिन बाद हुई दोबारा जांच में रिपोर्ट निगेटिव आने पर अस्पताल प्रशासन ने उसे डिस्चार्ज करते हुए एंबुलेंस से घर भेज दिया। मुंगेर डीएम, एसपी और सभी अधिकारियों ने बच्ची सहित पांच लोगों के स्वस्थ्य होकर घर लौटने पर खुशी जताई। मासूम का भाई और माता-पिता भी भर्ती थे। सभी को डिस्चार्ज कर दिया गया। सभी ने अस्पताल और जिला प्रशासन के प्रति आभार जताया। सदर बाजार निवासी एक वृद्ध के संपर्क में आकर संक्रिमत हुई थी। मासूम के साथ माता, पिता, मामा और एक अन्य का रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव आने के प्रशासन ने पटना के नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में इलाज के लिए भेज दिया था। एनएमसीएच प्रशासन ने मासूम, उसकी मां और अन्य को कोरोना वार्ड में आइसोलेट किया था। मां को वहां की स्टाफ नर्स ने विशेष सहयोग करते हुए मासूम को दूध पिलाने की सलाह दी है। इधर, मासूम बच्ची सहित पांच लोग जैसे ही सकुशल होकर जमालपुर पहुंचे, तो जिला प्रशासन की टीम मासूम बच्ची सहित अन्य लोगों से मिलने जमालपुर पहुंचे।

मां का दूध सबसे बड़ी दवा

मासूम की मां ने एनएमसीएच प्रशासन के प्रति आभार जताते हुए कहा कि डॉक्टरों की बदौलत मेरे कलेजे का टुकड़ा मेरे पास सुरक्षित है। पिता ने कहा कि मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने जो व्यवस्था की, उसके लिए हम सदैव आभारी रहेंगे।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस