जमुई, जेएनएन। चेन्नई के कोयंबटूर में जमुई के विभिन्न हिस्सों के फंसे मजदूरों ने वीडियो भेजकर मदद की गुहार लगाई है। कोयंबटूर के समीप त्रिपुर में सिकंदरा प्रखंड के विभिन्न गांवों के लगभग 350 मजदूर फंसे हुए हैं। इनके पास अब इतने पैसे नहीं बचे हैं जो कि किराया भुगतान कर सकें और राशन-पानी का इंतजाम कर सकें।

सिकंदरा प्रखंड के धर्मपुर गांव निवासी धर्मेंद्र पासवान, गोपाल पासवान आदि ने बताया कि वे लोग चाहकर भी पैदल गांव वापस नहीं जा सकते हैं। जिस जगह वे लोग फंसे हैं, वहां से गांव की दूरी 2200 किलोमीटर से अधिक है। जाजल गांव निवासी सुरेंद्र यादव व मनोज यादव, बिछवे गांव निवासी सुबोध महतो, हरला निवासी परमानंद व सूरज आदि ने बताया कि परिवार और बाल-बच्चों के साथ वे यहां भूख से बिलबिला रहे हैं। मुसीबत यह है कि तमिल लोग उनकी मदद नहीं कर रहे हैं।

कोयंबटूर के त्रिपुर में फंसे मजदूरों की सुध ली जा रही है। इसके लिए प्रोपर चैनल के माध्यम से सकारात्मक कदम उठाए जा रहे हैं। ऐसे लोगों के लिए मुख्यमंत्री द्वारा बिहार भवन में मॉनिटङ्क्षरग कक्ष स्थापित किया गया है। - धर्मेंद्र कुमार, डीएम, जमुई

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021