भागलपुर [जेएनएन]। सृजन महिला सहयोग समिति लिमिटेड की संपत्ति की इंट्री कंप्यूटर में होने लगी है। इसमें खाताधारियों और लोन लेने वालों की भी इंट्री की जा रही है। अभी तक 25 सौ खाताधारियों की इंट्री की जा चुकी है।

सृजन महिला विकास सहयोग समिति के रिकॉर्ड को डिजिटल किया जा रहा है। समिति के प्रशासक सह सहकारिता प्रसार पदाधिकारी से जल्द से जल्द समिति कार्यालय में सीसीटीवी लगाने के लिए कहा गया है। दी भागलपुर सेंट्रल कोऑपरेटिव बैंक के एमडी सह जिला सहकारिता पदाधिकारी मो जैनुल आबदीन अंसारी ने समिति के सभी कागजात को डिजिटल करने का निर्देश दिया हैं।

सबौर स्थित सृजन कार्यालय परिसर में सृजन संबंधी दस्तावेजों और साक्ष्यों से छेड़छाड़ और दस्तावेजों की चोरी रोकने के लिए 12 सीसीटीवी लगाए जा रहे हैं। जिला सहकारिता पदाधिकारी ने बताया कि सृजन से जुड़े अभिलेखों पर नजर रखे जाने के लिए वहां जल्द ही कैमरे लगाए जाएंगे। जिला सहकारिता पदाधिकारी अब सृजन घोटाले की जांच कर रही सीबीआई टीम में शामिल अधिकारियों के पत्राचार का जवाब देने के लिए हर सप्ताह समीक्षा बैठक करेंगे।

सृजन घोटाले में महिलाकर्मी को जेल

सत्रह सौ करोड़ रुपये के सृजन घोटाले सृजन महिला विकास समिति की महिला कर्मचारी शुभ लक्ष्मी प्रसाद को सीबीआइ की विशेष अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आरोपित को न्यायिक हिरासत में 10 दिसंबर तक बेउर जेल भेज दिया। सीबीआइ आरोपित को गिरफ्तार कर अदालत में लाई थी। वह फरार चल रही थी।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस