जागरण संवाददाता, भागलपुर। उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद के जाते ही सिल्क सिटी में ब्लैकआउट होने लगा है। न्यू विक्रमशिला कालोनी, सचिदानंद नगर, जवारीपुर, नीलकंठ नगर, गांधीग्राम कालोनी, जीरोमाइल सहित दो दर्जन से अधिक इलाकों में 16 घंटे बिजली ठप रही। शुक्रवार की रात नौ बजे आई खराबी को शनिवार की दोपहर एक बजे ठीक करने के बाद इन इलाकों में बिजली आपूर्ति शुरू की गई।

हाइलाइटस

- 16 घंटे गुल रही शहर के दो दर्जन इलाकों में बिजली

- शुक्रवार की रात नौ बजे आ गई थी लाइन में खराबी

- शनिवार दोपहर एक बजे शहर में शुरू हो पाई आपूर्ति

- अघोषित कटौती से उमस भरी गर्मी में लोगों को हुई काफी परेशानी

- कटौती से पूर्व मोबाइल फोन पर उपभोक्ताओं को नहीं भेजी गई सूचना

11 हजार वोल्ट के तार में पेड़ की टहनी सटने की वजह से फीडर ब्रेकडाउन हो गया था। विभागीय अधिकारियों और कर्मियों की लापरवाही के कारण इन इलाके के लोगों को बिजली-पानी संकट झेलना पड़ा। शनिवार को ही बरारी सहित कई इलाकों में छह घंटे बिजली आपूर्ति ठप रही। घंटों अघोषित बिजली कटौती से उमसभरी गर्मी में लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। यही नहीं बिजली कटौती से पहले विभाग को संबंधित फीडर से जुड़े इलाके के उपभोक्ताओं को कम से कम छह-सात घंटे पूर्व मोबाइल फोन पर कटौती का मैसेज भेजना अनिवार्य है, लेकिन विभागीय अधिकारियों द्वारा ऐसा नहीं किया गया। बरारी उपकेंद्र के इंडस्ट्रियल फीडर को 11 बजे बंद कर दिया गया और शाम साढ़े चार बजे के बाद फीडर को चालू कर संबंधित क्षेत्रों में आपूर्ति शुरू की गई। वहीं, जर्जर 11 हजार वोल्ट के तार पर टहनी गिरने से बरारी फीडर ब्रेकडाउन हो गया। इसके कारण इस फीडर से जुड़े इलाकों में तीन घंटे से अधिक देर के लिए बिजली ठप रही। वहीं, सुबह साढ़े दस बजे से शाम पांच बजे तक आदमपुर फीडर हर आधा घंटे में ट्रिङ्क्षपग कर रहा था। इसकी वजह से इस फीडर से संबंधित मोहल्ले में भी तीन घंटे से अधिक देर बिजली प्रभावित रही।

उप मुख्यमंत्री दो दिवसीय दौरे पर भालगपुर में थे। उनके भागलपुर में रहने तक एक मिनट के लिए भी बिजली नहीं कटी, लेकिन उनके यहां से जाते ही बिजली कटौती और ट्रिङ्क्षपग की समस्या फिर खड़ी हो गई है। हालांकि विभाग के अनुसार सेंट्रल जेल और बरारी उपकेंद्रों के बीच वैकल्पिक लाइन जोडऩे का काम कराने के लिए इंडस्ट्रियल फीडर को बंद किया गया था।  

Edited By: Abhishek Kumar