भागलपुर, जेएनएन। पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में अल्पसंख्यकों की संख्या में कमी आई है। ये बातें भारतीय जनता पार्टी की एक होटल में आयोजित कार्यशाला में भाजपा के प्रदेश महामंत्री सह विधान पार्षद राधा मोहन शर्मा ने कही।

उन्होंने कहा कि सर्वाधिक उत्पीडऩ दलित एवं वनवासी समुदाय भील, मेघवाल, औध, कोली, वाल्मीकि, मांझी, चकमा, मतुआ एवं नामशुद्ध का हुआ है।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाध्यक्ष रोहित पांडेय ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून भारत में अनिवार्य था। इसके लिए पूर्व में पंडित जवाहरलाल नेहरू, डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, प्रकाश करात, तरुण गोगोई, ममता बनर्जी एवं डॉ. मनमोहन सिंह ने भी आवाज उठाई थी।

एक दिवसीय कार्यशाला के साथ-साथ भाजपा की जिला स्तर की बैठक भी आयोजित की गई थी, जिसमें पूर्व जिला अध्यक्ष नरेश चंद्र मिश्रा, नभय चौधरी, अभय वम्र्मन, सरस्वती कुमार, विजय कुशवाहा मुकेश सिंह, प्रो. किरण सिंह, दिलीप निराला, कन्हाई मंडल, आनंद शुक्ला, पवन मिश्रा, रोशन सिंह, मुरारी पासवान, भरत शाह, युवा मोर्चा अध्यक्ष अभिनव कुमार, मनीष दास, संजीव सिंह, प्रिंस मंडल, लीना सिन्हा, नीतू चौबे, श्यामल किशोर मिश्रा आदि थे।

एनआरसी और सीएए के समर्थन में चलाया हस्ताक्षर अभियान

एनआरसी और सीएए के समर्थन में नवगछिया नगर के राजेंद्र कॉलोनी में भाजपा कार्यकर्ताओं ने हस्ताक्षर अभियान चलाया। कार्यक्रम का नेतृत्व भाजपा नगर अध्यक्ष कौशल जायसवाल ने किया। मौके पर लोगों को एनआरसी और सीएए की जानकारी देकर जागरूक भी किया गया।

भाजपा के पूर्व नगर अध्यक्ष आलोक रंजन सिंह ने बताया कि यह कानून नागरिकता देने का है। इससे किसी की नागरिकता नहीं जाएगी। मौके पर भाजपा कार्यकर्ता आलोक रंजन सिंह, शंकर सिंह, अशोक कुमार सिंह, बाबू साहब, प्रवेश कुमार यादव, छोटू कुमार भदोरिया, अभिनंदन यादव, प्रेम जायसवाल, सूरज कुमार, अविनाश कुमार आदि मौजूद थे।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस