संसू.,बड़हिया (लखीसराय)।  केंद्र शासित प्रदेश दमन में गांजा तस्करी का तार बड़हिया से जुड़ गया है। इस तस्करी में लंबे समय से जुड़े स्थानीय वार्ड नबंर तीन निवासी स्व. माणिक साव के बेटे अनिल साव को दमन की पुलिस ने स्थानीय बड़हिया पुलिस के सहयोग से शुक्रवार को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया है। बड़हिया प्रखंड क्षेत्र गांजा तस्करी का हब शुरू से रहा है। अनिल साव की गिरफ्तारी के बाद दमन एवं बड़हिया थाना की पुलिस पूछताछ कर रही है। लखीसराय कोर्ट में पेशी के बाद उसे ट्रांजिट डिमांड पर दमन पुलिस अपने साथ उसे ले जाएगी।

जानकारी के अनुसार अनिल साव का साला रंजीत महेंद्र साव दमन में जाकर बस गया है। वह वहां पान की गुमटी खोल रखा है। अनिल साव भी बराबर वहां जाया करता था। इसी दौरान अधिक रुपये कमाने की लालच एवं दमन में गांजे की अधिक मांग को देखते हुए अनिल साव ने इसकी तस्करी शुरू कर दी। बड़हिया सहित अन्य स्थानों से गांजा ले जाकर वह दमन में ऊंची कीमत पर बेचने लगा। इसी महीने की आठ तारीख को नानी दमन थाना क्षेत्र स्थित रंजीत महेंद्र साव की दान दुकान पर पुलिस ने छापेमारी कर लगभग पांच पांच किलो गांजा बरामद की।

दमन पुलिस ने रंजीत महेंद्र साव को गिरफ्तार करके जब उससे पूछताछ की तो उसने अपने जीजा बिहार के लखीसराय जिला अंतर्गत बड़हिया निवासी अनिल साव का नाम बताते हुए कहा कि वही यहां पर गांजा का सप्लाई करता है। इसके बाद दमन पुलिस के एएसआइ वीरेंद्र देवजी एवं एक कांस्टेबल जितेंद्र हलपति गुरुवार को बड़हिया पहुंचे। यहां बड़हिया थाना को घटनाक्रम की जानकारी दी और दो दिनों तक अनिल साव की गिरफ्तारी के लिए जाल बिछाया।

शुक्रवार को जैसे ही सूचना मिली कि अनिल साव अपने घर में है तभी पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। इस संबंध में दमन पुलिस के एएसआइ वीरेंद्र देवजी ने बताया कि अनिल साव को लखीसराय न्यायालय में प्रस्तुत कर उसे ट्रांजिट रिमांड पर दमन ले जाकर पूछताछ की जाएगी। अनिल साव का साला रंजीत महेंद्र साव मूल रूप से जमुई जिले का रहने वाला है जो अब दमन में ही जाकर बस गया है। 

Edited By: Abhishek Kumar