जागरण संवाददाता, भागलपुर। पूर्व सैनिक व मृत सैनिकों की विधवाओं एवं उनके बच्चों के कल्याण के लिए सरकार ने विशेष कार्ययोजना तैयार की है। सरकार इन्हें उच्च शिक्षा और स्वरोजगार के लिए ऋण उपलब्ध कराएगी। एजेंसियों में रोजगार करने का भी अवसर मिलेगा। इसके लिए इच्छुक लाभुक 30 जून तक जिला सैनिक कल्याण पदाधिकारी के कार्यालय में आवेदन जमा कर सकते हैं।

जिला सैनिक कल्याण पदाधिकारी ने बताया कि पीएमइजीपी प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के अंतर्गत साक्षर लाभुक अधिकतम 50 लाख और आठवीं पास लाभुक अधिकतम 25 लाख का ऋण लेकर सूक्ष्म उद्योग लगा सकेंगे। इसमें 15 से 35 फीसद तक अनुदान मिलेगा।

पूर्व सैनिकों की विधवाओं व उनके आश्रितों का होगा पुनर्वास

सरकार ने पूर्व सैनिक और उनके आश्रित को रोजगार एवं पुनर्वास की भी व्यवस्था की है। इसके लिए पूर्व सैनिक के स्वजन अपना स्व-हस्ताक्षरित बायोडाटा जिला सैनिक कल्याण पदाधिकारी के कार्यालय में 30 जून तक जमा कर सकते हैं। इसके बाद उनके रोजगार हेतु पीएचईडी, आरडब्ल्यूडी, आरसीडी एवं अन्य एजेंसी से संपर्क स्थापित किया जाएगा। स्वरोजगार योजना में इच्छा रखने वाले अलग से एक आवेदन पत्र के साथ अपने स्व-हस्ताक्षरित बायोडाटा लगाकर जिला सैनिक कल्याण पदाधिकारी के कार्यालय में 30 जून तक जमा कर सकते हैं। इस सूची को जिला उद्योग केंद्र में भेजा जाएगा।

इन योजनाओं का भी मिलेगा लाभ

मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं अति पिछड़ा वर्ग उद्यमी योजना के तहत भी ऋण उपलब्ध कराया जाएगा। न्यूनतम योग्यता इंटरमीडिएट उत्तीर्ण युवक एवं युवतियां अधिकतम 10 लाख का ऋण लेकर सुक्ष्म उद्योग लगाकर स्वरोजगार कर सकते हैं। इस योजना के अंतर्गत 50 फीसद यानी पांच लाख रुपये का अनुदान मिलेगा। शेष 50 फीसद ऋण राशि बिना ब्याज के 84 सामान्य किस्तों में वापस कर सकते हैं। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत किसी भी बैंक शाखाओं से शिशु, किशोर एवं तरुण योजना अंतर्गत ऋण का लाभ लेकर कोई भी साक्षर व्यक्ति स्वरोजगार अपना सकता है। इसके लिए जिला उद्योग केंद्र से संपर्क स्थापित कर सकते हैं।

स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड का मिलेगा लाभ

बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना के तहत बिहार सरकार द्वारा 12वीं पास बिहार के उन बच्चों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी, जो वित्तीय संसाधनों की कमी के कारण उच्च शिक्षा से वंचित रह जाते हैं। 

Edited By: Abhishek Kumar