संवाद सूत्र, धरहरा (मुंगेर)। अब जिले में उज्ज्वला योजना के लाभुक सिलेंडरों की रिफिलिंग कराएंगे। उज्ज्वला योजना के गैस चूल्हे पर फिर से भोजन बनेगा। बीच में मंहगाई की आंच में गैस सिलेंडर खाली हो गए थे और गरीबों को भराना मुश्किल हो गया था। उज्ज्वला योजना के तहत वर्ष में 12 सिलेंडरों की रिफिलिंग कराने पर दो सौ रुपये गैस का सब्सिडी देने की घोषणा से लाभुक काफी खुश हैं। जिले के लगभग 50 हजार लाभुक लाभांवित होंगे। जिले में उज्ज्वला के 50 हजार उपभोक्ता हैं। इनमें अब तक सब्सिडी ज्यादा नहीं मिलने से गैस सिलेंडरों की रिफिलिंग कराने वालों की संख्या 20 से 25 फीसद पहुंच गई थी। छह-सात माह में ही तीन बार रसोई गैस सिलेंडर के दाम बढऩे से रसोई का बजट काफी गड़बड़ाया गया था। सबसे ज्यादा मार प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत दिए गए गैस सिलेंडर धारकों पर पड़ा। महंगाई के कारण रसोई का बजट काफी बिगड़ा गया। गरीब परिवारों के लिए सिलेंडरों को भरवाना काफी परेशानी का सबब बन गया। पहले एक सिलेंडर की कीमत 1089 रुपये थी तो 76.43 रुपये सब्सिडी मिल रहा था। इससे पहले 997 रुपये सिलेंडर की कीमत रहने पर 350 रुपये सब्सिडी खाते में आती थी। सब्सिडी नाम मात्र का मिलने के बाद लाभुकों ने रिफिलिंग कराना शुरू कर दिया।

लाभुकों में खुशी, कराएंगे रिफिलिंग

महंगाई के दौर में छह माह पहले से ही घर में रसोई गैस सिलेंडर व गैस चूल्हा दिखावा के लिए रख दिया गया है। रसोई गैस भरवाना संभव नहीं है। लकड़ी व गोइठा पर खाना बना रहे थे। सब्सिडी के रूप में दो सौ रुपये मिलने की घोषणा से खुशी है। -लालमुनि देवी

आमदनी कम है, परिवार का भोजन भी चलाना है। ऐसे मे गैस के दाम बराबर बढ़ रहे थे। सिलेंडर रिफिलिंग कराना संभव नहीं था। इस कारण लकड़ी पर घरों में भोजन बन रहा है। नई घोषणा के बाद रिफिलिंग के बारे में विचार किया जएगा। -सुभद्रा देवी।

सरकार ने योजना के तहत मुफ्त में कनेक्शन तो दिया, लेकिन सब्सिडी की राशि पर विचार नहीं किया गया। सिलेंडर की जगह मिट्टी के चूल्हे पर भोजन बन रहा है। सब्सिडी को लेकर सरकार ने घोषणा की है, इससे राहत मिली है। -रजिया देवी

सरकार की ओर से मुफ्त में कनेक्शन मिला है, लेकिन लगातार बढ़ते कीमत के कारण गैस की रिफिलिंग कराने में परेशानी हो रही थी। लकड़ी और उपले पर चूल्हा जल रहा है। अब जब सब्सिडी में दो सौ रुपये मिलने की बात कही गई है तो रिफिलिंग फिर से कराएंगे। -सुधा देवी

Edited By: Dilip Kumar Shukla