संवाद सहयोगी, लखीसराय। नगर परिषद लखीसराय क्षेत्र में देसी शराब का निर्माण और तस्करी लंबे समय से बेरोकटोक जारी है। शराब तस्करों का मजबूत नेटवर्क सरकार और उत्पाद विभाग पर भारी है। तभी तो देसी शराब निर्माण का धंधा वर्षों से चल रहा है। शुक्रवार को उत्पाद विभाग की टीम ने शहर की वार्ड संख्या 18 अंतर्गत चरोखरा गांव में छापेमारी कर कई शराब भ_ी को ध्वस्त किया है।

छापेमारी की भनक लगते ही तस्कर भागने में सफल रहे। जानकारी हो कि तस्कर गांव के बहियार में धान खेत की आड़ में देसी शराब की भ_ी बनाकर शराब निर्माण का कार्य कर रहे थे। तस्कर धान के घने खेत, मेड़ के किनारे मिट्टी के अंदर, गंदे कीचड़ आदि जगहों पर प्लास्टिक डब्बा में जावा महुआ छिपाकर रखा था। उत्पाद विभाग की टीम ने सघन जांच कर जमीन के अंदर छिपाकर रखे गए दर्जनों डब्बा बंद जावा महुआ को बाहर निकालकर मौके पर ही नष्ट कर दिया। छापेमारी दल ने शराब निर्माण के लिए बनाए गए कई चूल्हे को भी ध्वस्त कर दिया।

जानकारी के अनुसार उत्पाद विभाग के इंस्पेक्टर प्रकाश कुमार के नेतृत्व में काफी संख्या में उत्पाद सिपाही की टीम जब चरोखरा गांव छापेमारी करने पहुंची तो गांव में हड़कंप मच गया। देसी शराब निर्माण के धंधे से जुड़े लोग भाग निकले। इसके बाद उत्पाद विभाग की टीम ने कई घंटे तक सघन छापेमारी की। इस दौरान झाड़ी एवं पेड़ की आड़ में जमीन खोदकर कई जगहों पर प्लास्टिक जार में छिपाकर रखे करीब 1,000 किलोग्राम जावा महुआ को नष्ट किया।

50 लीटर चुलाई शराब बरामद की। मौके से शराब निर्माण में उपयोग आने वाले बर्तन, प्लास्टिक डब्बा बरामद की गई। जानकारी हो कि इससे पहले भी 30 अगस्त को उत्पाद विभाग ने चरोखरा गांव में छापेमारी कर शराब भ_ी ध्वस्त कर काफी मात्रा में जावा महुआ नष्ट किया था। इस मामले में तस्कर आशीष केवट के विरुद्ध मामला दर्ज किया गया था लेकिन आजतक तस्कर पकड़ा नहीं गया।

 

Edited By: Abhishek Kumar