Move to Jagran APP

Bhagalpur News: लाइसेंसधारी के डंप बालू की जांच करेगी दो सदस्यीय टीम, अवैध खनन पर लगेगा अंकुश

भागलपुर में अपर समाहर्ता विधि-व्यवस्था व जिला पंचायती राज पदाधिकारी सभी बालू घाटों का अलग-अलग गहन जांच करेंगे। जांच में निर्धारित गहराई तक खनन पर्यावरणीय स्वीकृति क्षेत्र से बाहर खनन वास्तविक खनन योजना के अनुरूप किया गया है या नहीं पर विशेष ध्यान दिया जाना है। जांच के दौरान वीडियोग्राफी व फोटोग्राफी की जाएगी। सभी भंडारण अनुज्ञप्ति व सेकेंडरी लोडिंग का भी अलग-अलग भंडारण की जांच की जाएगी।

By Navaneet Mishra Edited By: Rajat Mourya Wed, 10 Jul 2024 12:02 PM (IST)
लाइसेंसधारी के डंप बालू की जांच करेगी दो सदस्यीय टीम (फाइल फोटो)

जागरण संवाददाता, भागलपुर। Bhagalpur Sand Mining मानसून अवधि में घाटों से बालू खनन बंद है। सिया बिहार द्वारा निर्गत पर्यावरणीय स्वीकृति के शर्त के आलोक में मानसून अवधि (मध्य जून से मध्य अक्तूबर) में बालू खनन प्रतिबंधित रहेगा। इस अवधि में मात्र लघु खनिज भंडारण अनुज्ञप्तिधारियों द्वारा भंडारित बालू एवं सेकेंडरी लोडिंग पर बंदोबस्तधारी द्वारा भंडारित बालू की ही बिक्री की जाएगी।

खनन की अनुमान्य अवधि में बंदोबस्तधारी द्वारा सभी शर्तों का पालन किया गया है, इसकी जांच करने का आदेश जिलाधिकारी द्वारा दिया गया है। अपर समाहर्ता विधि-व्यवस्था व जिला पंचायती राज पदाधिकारी सभी बालू घाटों का अलग-अलग गहन जांच करेंगे।

जांच में निर्धारित गहराई तक खनन, पर्यावरणीय स्वीकृति क्षेत्र से बाहर खनन, वास्तविक खनन योजना के अनुरूप किया गया है या नहीं पर विशेष ध्यान दिया जाना है। जांच के दौरान वीडियोग्राफी व फोटोग्राफी की जाएगी। सभी भंडारण अनुज्ञप्ति व सेकेंडरी लोडिंग का भी अलग-अलग भंडारण की जांच की जाएगी। भंडारण की आपूर्ति रेगुलर शेष व बेंच वाइज होगी, जिससे आयतन मापी में आसानी होगी।

सभी भंडारण अनुज्ञप्ति व सेकेंडरी लोडिंग स्थल पर सीसीटीवी व धर्मकांटा लगा है या नहीं, इसकी भी जांच होगी। बगैर सीसीटीवी व धर्मकांटा के परिवहन चालान निर्गत नहीं किया जाएगा। जांच की प्रक्रिया शुरू हो गई है। जिले में लघु खनिज भंडारणकर्ता (खुदरा व्यापारी) मात्र तीन है। नाथनगर के मनोज सिंह, शाहकुंड के मु. अबरार व कुणाल इंटरप्राइजेज सन्हौला को बालू बेचने का लाइसेंस निर्गत है।

इनके द्वारा जितने सीएफटी का बालू का चालान कटाया जाएगा, उतनी सीएफटी बालू की बिक्री की जाएगी। कुणाल इंटरप्राइजेज को गेरूआ-1 नदी का ठेका मिला है। अगर कहीं अवैध रूप से बालू डंप है और उसे पकड़ लिया जाता है तो खुदरा व्यापारी को लिखित रूप में तौलकर बेचने के लिए दे दिया जाता है।

खुलेआम बालू लेकर दौड़ रही जुगाड़ गाड़ी

बांका-कजरैली सड़क पर खुलेआम बालू लेकर जुगाड़ गाड़ी दौड़ रही है। दिन के दस बजे के बाद जुगाड़ गाड़ी पर बालू का बोरा लेकर बांका की ओर जाने लगती है। रात के अंधेरे में उधर से लौटती है। बालू का अवैध करोबार व्यवस्थित ढंग से हो रहा है।

सारी जानकारी पुलिस को उपलब्ध रहती है। कार्रवाई के नाम पर वैसे लोगों को पकड़ा जाता है, जिससे पुलिस को कुछ भी नहीं मिल रही है। इस कारोबार में पुलिस के मध्यम दर्जे के अधिकारी भी शामिल हैं।

ये भी पढ़ें- Rahul Gandhi: जीतन राम मांझी के बेटे राहुल गांधी पर क्यों भड़के? याद दिला दी सर्जिकल स्ट्राइक

ये भी पढ़ें- 'लालू यादव दिन में देख रहे सपना, मजबूती से चलेगी मोदी सरकार'; मुजफ्फरपुर में बोले उपेंद्र कुशवाहा