जागरण संवाददाता, भागलपुर। Bhagalpur Lockdown: पांच से 15 मई तक सरकार की ओर से संपूर्ण लॉकडाउन लगाया गया है। लॉकडाउन की सूचना मिलते ही लोग झोला और बोरी लेकर खरीदारी करने के लिए बाजार पहुंच गए। इस वजह से बाजार में जबरदस्त भीड़ रही। सब्जी मंडी से लेकर किराना और खाद्यान्न दुकानों में लोगों ने खूब खरीदारी की। किसी ने एक एक सप्ताह तक के लिए सब्जियां और घरेलू सामान खरीदें तो कई ने एक महीने का राशन खरीदा। भीड़ ज्यादा हो जाने की वजह से शारीरिक दूरी का भी खूब उल्लंघन हुआ। लोग लक्ष्मण रेखा को पार करते दिखे।

पिछले वर्ष की तरह बढ़ न जाए समय अवधि

खरीदारी करने पहुंचे लोगों में इस बात का भी डर था कि पिछले वर्ष की तरह इस बार भी लॉकडाउन की अवधि कई बार न जाए। इस वजह से भी बाजार में लोगों की अच्छी खासी भीड़ दिखी। लॉकडाउन में किसी प्रकार की समस्या सामने न आए इसकी तैयारी में लोग जुटे हुए हैं। शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों तक के बाजारों में सुबह से शाम तक दुकानों पर आवश्यक सामान की खरीददारी करने वालों की भीड़ देखी गई।

कैश के लिए एटीएम के आगे भीड़

लोग अपने जरूरी सामानों को अपने घरों में उपलब्धता के लिए तत्पर दिखे। इस बीच शहर से लगाये कस्बे में स्थित एटीएम पर पैसा निकासी के लिए लोगों की लम्बी कतारें देखने को मिली। शहर में स्थित तिलकामांझी,  भीखनपुर, खलीफाबाग, बूढ़ानाथ, साहिबगंज, ततारपुर, अलीगंज, बरारी आदि क्षेत्रों में स्थापित बैंकों के एटीएम के बाहर उपभोक्ताओं की भीड़ लगी रही। इस बीच संक्रमण से बचाव के लिए सभी के मुंह पर मास्क दिखाई दिया, लेकिन शारीरिक दूरी का पालन नहीं दिखा।

हडिया पट्टी, लोहा पट्टी, सब्जी मंडी में कोई रोकने वाला नहीं

एक बजे के बाद उल्टा पुल के नीचे और वेरायटी चौक होकर लोग दुकानों में खरीदारी करने पहुंचते रहे। कोई रोकने वाला नहीं था। दुकानदार भी शारीरिक दूरी बनाए रखने के बारे में रोकटोक भी नहीं करते दिखे। मार्केट में दर्जनों बाइक जहां-तहां खड़ी थी। पुल पर गाड़ियों का आवागमन भी जारी रहा।

उल्टा पुल के नीचे सब्जी मंडी में जबरदस्त भीड़ रही। वेरायटी चौक होकर लोग सब्जी और किराना दुकानों में खरीदारी करने पहुंचते रहे। कोई रोकने वाला नहीं था। दुकानदार भी शारीरिक दूरी बनाए रखने के बारे में रोकटोक नहीं करते दिखे। मार्केट में दर्जनों बाइक जहां-तहां खड़ी थी। स्टेशन चौराहा पर चाय और नाश्ते की दुकानें खुली थी। हर दिनों की तरह दुकानों में ग्राहकों की भीड़ थी न ग्राहक मास्क लगाए थे और ना ही दुकानदार को।