मुंगेर [जेएनएन]। जबलपुर से सेना के एके 47 राइफलों की तस्‍करी मामले के तार अब दिल्‍ली व मरेठ से भी जुड़ते दिख रहे हैं। इस बीच इस मामले में रिमांड पर लाए गए आरोपित मंजर उर्फ मंजी खान से पूछताछ के आधार पर पुलिस ने मुंगेर के मिर्जापुर वरदह गांव के सरपंच के घर पर छापेमारी की है।

यूपी-दिल्ली से जुड़ा एके 47 तस्‍करी कनेक्शन

दिल्ली पुलिस की स्पेशल टीम ने बीते नौ अक्टूबर को मेरठ में छापामारी कर अवैध मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन किया था। वहां मौके पर गिरफ्तार सैदुल्‍लाह बिहार के मुंगेर के मिर्जापुर बरदह गां का ही निवासी है। वह एके 47 मामले में गिरफ्तार मंजी उर्फ मंजर का रिश्तेदार है।

मुंगेर के एसपी बाबू राम के अनुसार मंजी ने पूछताछ के दौरान बताया है कि कि सैदुल्लाह अपना अलग नेटवर्क चलाता है और कई वर्षों से अवैध हथियार की तस्करी का काम करता है। सैदुल्लाह ट्रेन और ट्रक के जरिये अवैध हथियार की खेप बंगाल से यूपी और दिल्ली तक पहुंचाता है।

एसपी बाबू राम ने कहा कि पुलिस इस बिंदु पर जांच कर रही है कि कहीं मंजी ने सैदुल्लाह के माध्यम से एके 47 दिल्ली और आसपास के इलाकों में तो नहीं बेची है। वर्ष 2014 में दिल्ली में एक एके-47 राइफल बरामद किया गया था। उस समय एके-47 राइफल के मुंगेर मेड होने की बात कही गई थी। अब नए सिरे से इस बिंदु पर अनुसंधान किया जाएगा।

मंजर ने किए कई सनसनीखेज खुलासे

जानकारी के अनुसार एक 47 तस्‍करी मामले में रिमांड पर लाए गए आरोपित मंजर उर्फ मंजी खान से चल रही पूछताछ के आधार पर पुलिस ने मिर्जापुर बरदह पंचायत के सरपंच मो. असलम के घर पर देर रात छापेमारी की। पुलिस ने दो अन्य लोगों को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। असलम के घर व अन्‍य ठिकानों पर छापेमारी में क्‍या मिला इसका फिलहाल कुछ पता नहीं चला है। पूछताछ में मंजर ने कई सनसनीखेज खुलासे किए हैं। हालांकि, इस बाबत पुलिस कुछ भी बताने से इनकार कर रही है।

Posted By: Amit Alok