जागरण संवाददाता, खगड़िया। Amazing wedding : लड़के की मंद बुद्धि देखकर लड़की ने वरमाला के समय ही शादी से इंकार कर दिया। फिर क्या था शादी की महफिल में अफरातफरी सी मच गई। लड़के के साथ आई बारातमत को बिना दुल्हन के वापस लौटना पड़ा। मामला खगड़िया शहर से सटे रहीमपुर सोनबर्षा गांव की है। आधे से अधिक बरात रात में ही पैदल भाग निकले। जबकि लड़का उसके पिता चाचा व मामा रुके रहे। आपसी बातचीत हुई तब गुरुवार की सुबह सकुशल उन्हें भेजा गया। शादी में अए लड़की पक्ष के महेमानों ने लड़की की परख और फैसले को सही बताया। साथ ही लड़की के हिम्मत की दाद भी दी।

रहिमपुर सोनवर्षा गांव के पुजारी के घर नवगछिया पुलिस जिला अंतर्गत नारायणपुर शाहपुर चौहद्दी से लक्ष्मीकांत झा के पुत्र हितेश कुमार की बारात बुधवार को सोनवर्षा पहुंची। लड़की के घरवाले और समाज के लोगों ने जमकर बराती का स्वागत किया। बारात को खानपान कराया गया। देर रात स्टेज पर वरमाला होना था। सभी वरमाल का इंतजार भी कर रहे थे। दुल्हन के रुप में सजी धजी लड़की सखियों व स्वजनों के साथ स्टेज पर पहुंची। वरमाला के रस्मों के दौरान लड़के की हरकत देखकर लड़की समझ गई की यह मंदबुद्धि का है। लड़का अपने छोटे भाइ के कहने पर ही कुछ कर रहा था। यह सब देख लड़की गुस्से में आ गई। हाथ में लिए वरमाला को छोड़ शादी से इंकार करते हुए घर के अंदर चली आई।

लड़की के स्वजन महिलाओं ने कारण पूछा तो लड़की ने लड़के का मंद बुद्धि होने की बात बताई। जिस पर घर की महिलाएं लड़के को जांचने पहुंची और परख किया तो सामने आया कि लड़का सही में मंदबुद्धि का है। महिलाओं ने लडका से नाम पता पूछा तो लड़का नहीं बोल पाया। लड़का पैर में दर्द होने की बात कहकर स्टेज पर ही बैठ गया। तब लड़की के स्वजन और शादी में आए लोगों ने लड़की का साथ दिया और शादी नहीं हुई। भेद खुलने के साथ ही अधिकांश बारात रात में पैदल ही वहां से नकल लिए। जबकि कुछ लड़का के स्वजन और लड़का को ग्रामीणों ने रोक लिया। लड़की के स्वजनों का कहना हुआ कि उपहार में जो दिया गया वह सब वापस किया जाय।

मुखिया, थानाध्यक्ष रतेश कुमार रतन समेत समाज को लोगों ने पहल की और तब लड़का व उसके स्वजनों को सकुशल भेजा गया। लड़का हितेश से जब पूछा गया कि आपसे लड़की शादी करने से क्यों इकार कर दिया तो उसने बताया कि रात में ठंड लग गई थी। शेरवानी पहन रखे थे इसलिए अधिक ठंड लग रहा था। आवाज भी ठंड के कारण बैठ गया और पैर में भी दर्द होने लगा। इधर इस घटना को लेकर क्षेत्र में चर्चा बना हुआ है।

लड़की के इंकार करने पर शादी नहीं हुई। विधि व्यवस्था के मद्देनजर 112 नंबर की पुलिस और थाना से पुलिस को भेजा गया। दोनों परिवार की सहमति पर बरात और लड़का को सकुशल वापस किया गया। - रत्नेश कुमार रतन थानाध्यक्ष मुफस्सिल खगड़िया।

Edited By: Dilip Kumar shukla

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट