जागरण संवाददाता, भागलपुर। MNREGA Bhagalpur News : मनरेगा के काम में लगातार गड़बड़ी सामने आ रही है। ताजा मामला जनप्रतिनिधियों से जुड़ा है। हाल में चुनकर आए और पूर्व के जनप्रतिनिधियों ने अपनी पत्नी के नाम जाब कार्ड बनवा लिया है। अपनी पत्नी के नाम जाब कार्ड बनवाने में मुखिया, पंचायत समिति व वार्ड सदस्य शामिल हैं। एक जाब कार्ड की बात तो दूर दो-दो जाब कार्ड बनाया गया है। दोनों ही जाब कार्ड पर एक ही दिन में दो काम किया गया है और दोनों ही काम का भुगतान हुआ है।

ताजा गड़बड़ी का मामला गोराडीह प्रखंड के काशिमपुर, सालपुर सहित कई अन्य पंचायतों से जुड़ा है। इन पंचायतों में एक व्यक्ति के नाम पर दो-दो जाब बनाया गया है। दोनों जाब कार्ड पर लगातार काम दिया गया है। कई मजदूरों को बिना काम कराए ही भुगतान किया गया है। इस मामले में अभी तक कोई जांच नहीं की गई है। गड़बड़ी में मनरेगा के पंचायत स्तरीय अधिकारी जुड़े हैं। दो-दो जाब कार्ड बनाए जाने का मामला और भी कई पंचायतों में सामने आ रहा है।

गोराडीह प्रखंड के काशिमपुर पंचायत के गांव गंगा करहरिया के बैद्यनाथ मंडल की पत्नी गीता देवी का जाब कार्ड बनाया गया है। गीता देवी के नाम से दो जाब कार्ड बनाया गया है। दोनों जाब कार्ड पर एक ही दिन अलग-अलग स्थानों पर काम दिया गया है। पहले जाब कार्ड पर मास्टर रोल संख्या 14187 पर 31 जनवरी 22 से 15 फरवरी 22 तक, 15104 पर 17 फरवरी 22 से चार मार्च 22 तक काम दिया गया। दूसरे जाब कार्ड पर मास्टर रोल संख्या 14201 पर 31 जनवरी 22 से 15 फरवरी 22 तक व 15090 पर 17 फरवरी से चार मार्च तक काम किया गया।

गंगा करहरिया गांव के नरेश मंडल के पुत्र अरविंद कुमार का दो जाब कार्ड बनाया गया है। दोनों ही जाब कार्ड पर उन्हें काम दिया गया है। एक ही दिन और समय पर इनके द्वारा काम किया गया है। पहले जाब कार्ड पर मास्टर रोल संख्या 14194 पर 31 जनवरी 22 से 15 फरवरी 22 तक व 15093 पर 17 फरवरी 22 से चार मार्च 22 तक अरविंद कुमार को काम दिया गया। दूसरे जाब कार्ड पर मास्टर रोल संख्या 14197 पर 21 जनवरी 22 से 15 फरवरी 22 तक व 14197 पर 17 फरवरी 22 से चार मार्च 22 काम किया। दोनों ही काम का भुगतान किया गया।

Edited By: Dilip Kumar Shukla