जागरण संवाददाता, भागलपुर। Smart City Bhagalpur : सैंडिस कंपाउंड के चारों तरफ की सड़कें अब दुधिया रोशनी से जगमग होगी। डीएम सुब्रत कुमार सेन ने स्मार्ट सिटी के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि सैंडिस में लाइटिंग की व्यवस्था इस प्रकार करें कि वहां से गुजरने वाली सड़कों पर भी रोशनी हो सके। डीएम को जानकारी मिली कि नगर निगम क्षेत्र में इइएसएल कंपनी के द्वारा कई क्षेत्रों में एलइडी लाइट नहीं लगाई गई है। उन्होंने नगर आयुक्त को निर्देश दिया है कि सर्वेक्षण कर सभी क्षेत्रों में एलइडी लाइट लगाना सुनिश्चित कराएं।

स्मार्ट सिटी परियोजना में खाली पदों पर चल रही नियोजन की प्रक्रिया

सीएफओ व स्मार्ट सिटी कंपनी के सचिव ने डीएम को जानकारी दी है कि स्मार्ट सिटी परियोजना में 30 पद स्वीकृत हैं। 23 पद पर पदाधिकारी व कर्मी कार्यरत है। खाली पदों पर नियोजन की प्रक्रिया चल रही है। एरिया बेस्ड डवलपमेंट का क्षेत्र नगर निगम के वार्ड संख्या 18 से 23 तक लिया गया है। इसमें शहर के अधिकांश महत्वपूर्ण स्थानों को शामिल किया गया है। रेलवे स्टेशन के बाहर एवं मुख्य बाजार को योजना में शामिल नहीं किए जाने के संबंध में सचिव ने बताया कि एरिया सर्वे कर शहर के मध्य भाग को चिन्हित करते हुए प्रस्ताव तैयार किया गया था। इस संबंध में उप विकास आयुक्त सुनील कुमार व सदर एसडीओ द्वारा अवगत कराया गया कि वार्ड संख्या 38, मुख्य बाजार, रेलवे स्टेशन होते हुए गुड़हट्टा चौक तक स्मार्ट सिटी एरिया बेस्ट डवलपमेंट में विस्तार कराने के लिए नियमानुसार कार्रवाई किए जाने की आवश्यकता है। शहर के मुख्य प्रवेश द्वारा एवं उसके आसपास के क्षेत्रों का विकास एवं सौंदर्यीकरण स्मार्ट सिटी योजना के अंतर्गत प्रस्तावित किया जा सकता है। डीएम ने इसपर कार्य शुरू करने का निर्देश दिया है।

एसएम कॉलेज समेत कई सरकारी कार्यालयों में लगाए गए सोलर प्लांट

सोलर प्लांट लगाने का काम मेसर्स नोवस ग्रीन इनर्जी सिस्टम प्रा. लि. व मेसर्स आएमजे ग्रीन इनर्जी प्रा.लि. द्वारा किया जा रहा है। जवाहर लाल नेहरू चिकित्सा महाविद्यालय, प्रमंडलीय आयुक्त कार्यालय, वाणिज्य कर कार्यालय, उप विकास आयुक्त कार्यालय, जिला निर्वाचन कार्यालय, जिला कोषागार कार्यालय, नगर निगम कार्यालय 1 व 2, सुंदरवती महिला महाविद्यालय में सोलर प्लांट लगाने का कार्य पूर्ण हो चुका है। इससे 336 केवी विद्युत का उत्पादन हो रहा है। यह ऑन ग्रिड प्रक्रिया के तहत कार्य कर रहा है। डीएम ने नगर आयुक्त को उक्त सभी भवनों पर क्रियान्वित सोलर परियोजना की जांच कराकर उसका औसतन उपयोग हो रहा है या नहीं के संबंध में स्पष्ट प्रतिवेदन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। साथ विद्युत विपत्र में हो रही कटौती के संबंध में अवगत कराने के लिए कहा है।

18 माह में पूरा होगा कंट्रोल एंड कमांड भवन का निर्माण

कंट्रोल एंड कमांड भवन का निर्माण कार्य 18 महीने में पूरा हो जाएगा। स्मार्ट सिटी के वरीय प्रबंधक ने डीएम को बताया कि कंट्रोल एंड कमांड भवन के लिए 26.26 करोड़ की राशि स्वीकृत थी। टेंडर के फलस्वरूप 23.5 करोड़ में एवार्ड हुआ है। अभी नींव स्तर पर कार्य कराया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत जिले में दो सौ किलोमीटर ऑप्टीकल फाइबर जमीन के नीचे बिछाया जाएगा। शहर के विभिन्न क्षेत्रों में तीन हजार सीसी कैमरे लगाए जाएंगे। इसे कंट्रोल एंड कमांड भवन से संचालित किया जाएगा। बेल्ट्रॉन के माध्यम से मानव बल उपलब्ध कराया जाएगा। डीएम ने विस्तृत कार्य योजना व पूर्ण कराए जाने से संबंधित विवरणी उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप