भागलपुर। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के हॉस्टल नंबर एवं दो का हाल बदतर है। वहां चार दर्जन कमरों में ताला लटका है। उसे छात्राओं को आवंटित नहीं की जाती है। विवि प्रशासन का भी इस ओर कोई ध्यान नहीं है।

हॉस्टल नंबर एक में 20 एवं हॉस्टल नंबर दो में 36 कमरे बंद पड़े हैं। इन कमरों की मरम्मत हो जाती तो सौ से अधिक छात्राओं को निजी लॉज में रहने की दरकार नहीं होती। उनके अभिभावकों को अतिरिक्त आर्थिक दबाव नहीं झेलना पड़ता।

हालांकि इस संबंध में डीएसडब्ल्यू डॉ. राम प्रवेश सिंह ने कहा कि सभी बंद पड़े कमरों की जल्द मरम्मत कराई जाएगी। उसका प्राक्कलन तैयार करवाया जा चुका है। जल्द काम शुरू किया जाएगा। इसके बाद आवंटित किया जाएग।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस