बेगूसराय। छौड़ाही ओपी क्षेत्र के सावंत गांव से सट कर गुजर रहे 11 हजार वोल्टेज हाईटेंशन तार के संपर्क में आने से चार बालिकाएं गंभीर रूप से घायल हो गई। दो बालिकाओं का इलाज पीएचसी छौड़ाही में, जबकि दो का इलाज निजी क्लीनिक में चल रहा है। दो अन्य बच्ची को मामूली झटका लगा है, जिनका इलाज गांव में ही कराया जा रहा है। घटना के बाद विद्युत आपूर्ति रोक दी गई है।

इस संबंध में सीओ छौड़ाही को दिए आवेदन में सावंत गांव के वार्ड नंबर 15 निवासी मोहम्मद अब्दुल्ला, महफूज आलम, मोहम्मद नवाज, मोहम्मद जाहिद, मोहम्मद हन्नान, मोहम्मद वशी आदि ग्रामीणों ने कहा कि मंगलवार की सुबह गांव के मदीना मस्जिद में बच्चे पढ़ने के लिए एकत्रित हुए थे। हाथ पैर धोने के दौरान बजुखाना के ठीक ऊपर से गुजर रहे 11 हजार वोल्ट का विद्युत प्रवाहित तार से बच्चों को जोरदार झटका लगा। इसकी चपेट में आकर सावंत निवासी मोहम्मद महफूज आलम की 10 वर्षीय पुत्री मुबसरा महफूज, मोहम्मद नूर आलम की बेटी नासरीन परवीन, मोहम्मद तनवीर आलम की बेटी मुस्कान परवीन एवं शगुफ्ता परवीन गंभीर रूप से घायल हो गई। दो अन्य बच्चे बिजली के झटके से दूर जा गिरे। उन्हें मामूली चोट आई है। गंभीर रूप से घायल शगुफ्ता परवीन एवं नासरीन परवीन को ग्रामीणों ने आनन-फानन में इलाज के लिए पीएचसी एवं बाकी दो बच्चियों को इलाज के लिए निजी क्लीनिक में भर्ती कराया, जहां बच्चियों की स्थिति अभी भी गंभीर बनी हुई है। ग्रामीणों ने धार्मिक स्थल के ऊपर से हाई वोल्टेज तार लगाने का विरोध किया था। कार्यपालक अभियंता बेगूसराय ने सहायक अभियंता मंझौल एवं कनीय अभियंता खोदावंदपुर को तार शिफ्ट करने का लिखित आदेश भी दिया था। लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी के यहां भी परिवाद दायर किया गया। परंतु, विभाग के अधिकारियों पर कोई फर्क नहीं पड़ा। ग्रामीणों के आवेदन में आरोप लगाया है कि बिजली विभाग के सहायक एवं कनीय अभियंता मंझौल एवं खोदावंदपुर, तार शिफ्ट करने के बदले में अवैध राशि की मांग कर रहे हैं।

ग्रामीणों ने विद्युत विभाग के कार्यपालक अभियंता, बेगूसराय एवं सीओ छौड़ाही को दिए आवेदन में बिजली विभाग के सहायक अभियंता मंझौल एवं कनीय अभियंता खोदावंदपुर के विरुद्ध कार्रवाई करने, तार को अविलंब दूसरी जगह शिफ्ट करने एवं घायलों को मुआवजा देने की मांग की है। अंचलाधिकारी विजय प्रकाश ने ग्रामीणों का आवेदन स्वीकार करते हुए संबंधित विभाग को आवेदन प्रेषित करने का आश्वासन दिया है। सीओ ने मांगों पर विचार करने का आश्वासन ग्रामीणों को दिया।

Edited By: Jagran