बांका [जेएनएन]। अंजान मिस्ड कॉल से एक शादीशुदा और एक बच्चे की मां से एक छात्र की बातचीत हुई। फिर दोनों एक साल तक एक-दूसरे से बात करते रहे, बातचीत के बाद दोनों को प्यार हो गया। दोनों एक-दूसरे से मिले फिर प्यार परवान चढ़ा और दोनों ने एक साथ जिंदगी बिताने का फैसला कर लिया। समाज के बनाए उसूल को दरकिनार कर दोनों घर से भाग निकले और देवघर पहुंचकर मंदिर में शादी रचा ली। 

शादी के बाद युवक प्रेमिका से पत्नी बनी महिला को लेकर अपने घर  आ गया जहां अपने घरवालों का गुस्सा देखकर पत्नी को लेकर पटना चला आया। दोनों पक्ष के परिजनों ने पुलिस में शिकायत दर्ज करायी जिसके बाद पुलिस ने दबिश बनाया तो दोनों प्रेमी-प्रेमिका ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया।

विवाहिता रेणु 19 मई को घर से प्रेमी संग भागी थी। देवघर पहुंचकर दोनों ने शादी रचाई और दोनों पहले कोलुहा गांव पहुंचे। यहां परिजनों के उग्र रूप को देखकर दोनों भागकर पटना चले गए। इस बीच पुलिस ने दबिश बनाया और प्रियांशु के भाई गोल्डन मंडल एवं दोस्त सत्यपाल कुमार को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। इसकी सूचना मिलने पर प्रियांशु और रेणु ने मंगलवार सुबह ही पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया।

प्रियांशु ने बताया कि उसका आधार कार्ड नहीं होने के कारण पुलिस हिरासत में रहे दोस्त के आधार कार्ड पर सिम खरीदा था। अंजान मिस्ड कॉल से दोनों के बीच एक साल पूर्व बातचीत शुरू हुई। जो प्यार में बदल गया। इस दौरान दो बार वह हाजीपुर जाकर प्रेमिका से मिला फिर उसने शादी करने का दवाब बनाया और 19 मई को दोनों घर से भाग गए।

20 मई को देवघर में शादी रचाकर घर पहुंचे तो पिता ने पुलिस के हवाले करने की बात कहकर घर से भगा दिया। रेणु ने बताया कि उसकी पहली शादी तीन वर्ष पूर्व हाजीपुर के मनहार गांव निवासी धर्मेंद्र कुमार सिंह से हुई थी। जिसमें आदर्श कुमार नामक ढाई साल का पुत्र भी है। पर अब हम दोनों पति पत्नी बन चुके हैं। वैसे अपने पुत्र को भी साथ रखना चाहती हूं। 

प्रभारी थानाध्यक्ष गौतम बुद्ध ने बताया कि समस्तीपुर पुलिस को सूचना दे दी गई है। पुलिस के पहुंचते ही प्रेमी युगल को सुपुर्द कर दिया जाएगा।

 

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप