बांका। गर्मी के मौसम में जिले की बड़ी आबादी पेयजल संकट से जूझती है। कई इलाके में शादी-श्राद्ध जैसे आयोजन भी पेयजल संकट की भेंट चढ़ जाता है। लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण संगठन ने इस संकट को दूर करने का इस सीजन में उपाय भी निकाला। पानी किसी की शादी और श्राद्ध में बाधा उत्पन्न नहीं करे, इसके लिए ऐसे घरों में टैंकर से पानी पहुंचाने का निर्णय लिया है। इसी सीजन में इस पर काम भी शुरू हो गया। शादी वाले घरों में खूब पानी पहुंचाया गया। पीएचईडी के इस अभियान ने लोगों को बड़ी राहत दी है।

------------------------

कैसे मिलेगा एक टैंकर पानी :

शादी-श्राद्ध में एक आवेदन पर पानी पहुंचाने की योजना के लिए बांका में दो दर्जन से अधिक टैंकर उपलब्ध कराया गया है। ताकि पेयजल संकट वाले इलाके में पानी पहुंचाने में कोई परेशानी नहीं हो। इसके लिए जरूरतमंद लोगों को बस पीएचईडी के नाम से एक आवेदन लिखना है। इस आवेदन के साथ शादी या श्राद्ध का एक कार्ड भी लगा देना है। आवेदन पर स्वीकृति मिलने के साथ ही सौ रुपया जमा कर इसकी रसीद कटा लेनी है। निर्धारित तिथि को पीएचईडी का एक टैंकर पानी आपके घर पर पहुंचेगा। एक टैंकर से अधिक पानी की जरूरत बताने पर पीएचईडी दूसरा टैंकर पानी भी उपलब्ध कराएगा।

------------------------

कोट

शादी विवाह में लोगों के घर पानी पहुंचाने की योजना का जिले में बड़ी संख्या में लोग लाभ ले रहे हैं। इसके लिए दस नया टैंकर भी खरीदा गया है। किसी को पानी की कमी नहीं होने दी जाएगी।

मनोज कुमार चौधरी, कार्यपालक अभियंता, पीएचईडी

------------------------

फोटो-9 बीएएन 13

शादी विवाह में लोगों को पानी पहुंचाने की योजना प्रभावी नहीं हो सकी। कई इलाके में लोग गर्मी में पीने के पानी को तरस रहे हैं। पुराने अधिकांश चापानल खराब है। पीएचईडी को सूचना के बाद भी मिस्त्री इसे ठीक नहीं करा है।

सुनील कुमार यादव, सामाजिक कार्यकर्ता

------------------------

फोटो- 9 बीएएन14

टैंकर से पानी पहुंचाने की योजना सराहनीय कदम है। इससे निश्चित रूप से यज्ञ आयोजन वाले परिवारों की समस्या कम होगी। खास कर जिस इलाके में पानी की समस्या है, वहां के ग्रामीणों के लिए वरदान है।

गौतम कुमार, बांका

------------------------

फोटो- 9बीएएन 15

योजना लाभकारी है। लेकिन, लोगों के पास इसकी जानकारी नहीं है। पीएचईडी को इस योजना का व्यापक प्रचार प्रसार कराने की जरूरत है।

राजमणि, बांका

------------------------

फोटो- 9 बीएएन 16

पीएचईडी को कटोरिया और बौंसी इलाके में पानी की समुचित व्यवस्था करने की जरुरत है। नए चापानल लगाने के साथ पीएचईडी कर्मी खराब चापानल को दुरूस्त करने में भी सक्रिय भूमिका निभाएं।

रौशन, युवा

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस